सूर्य ग्रहण 2020: कुछ मिनटों बाद लगेगा सूर्यग्रहण, जाने किन राशियों पर पड़ेगा प्रभाव

Surya Grahan 2020: आज 21 जून रविवार को सूर्य ग्रहण लग रहा है। यह ह ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट पर शुरू होगा। ग्रहण दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर अपने सबसे अधिक प्रभाव में होगा। इसके बाद यह 3 बजकर 4 मिनट पर समाप्त हो जायेगा। यह सूर्य ग्रहण भारत के अलावा एशिया, अफ्रीका और यूरोप के में भी दिखेगा। ग्रहण का समय अलग-अ।लग रहेगा। इस सूर्य ग्रहण को  ‘रिंग ऑफ फायर’ के रूप में दिखेगा सूर्य ग्रहण, लाइव नजारा यहां देख सकेंगे

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस प्रकार का ग्रहण शुभ नहीं माना जाता। साल का यह पहला ग्रहण मृगशिरा नक्षत्र और मिथुन राशि में लगेगा। ग्रहण के दौरान एक साथ 6 ग्रह वक्री अवस्था में मौजूद रहेंगे। जिसमें गुरु, शनि,मंगल, शुक्र, राहु और केतु हैं। ग्रहण के समय कई तरह की नकारात्मक ऊर्जाएं प्रभावी हो जाती जाती। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि ग्रहण के समय समस्त सृष्टि में भगवान पर संकट छाया रहता है और जब तक राहु का ग्रास खत्म नहीं होता तब सबसे ज्यादा नकारात्मक ऊर्जा हावी रहती है। इस समय पूजा-पाठ या किसी तरह का कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है।

सूर्य ग्रहण के कारण राशियों पर भी इसका प्रभाव पड़ता है। इस  साल के सूर्य ग्रहण का सबसे अधिक असर तुला, वृश्चिक और धनु राशि के जातकों पर पड़ने वाला हैं। ऐसे समय में  ग्रहण में मंत्रों का जाप करना बहुत ही उपयोगी सिद्ध होता है। तो आईये जानते हैं इस सूर्य ग्रहण का कैसा प्रभाव देखने को मिलेगा और इन राशि के जातकों को कौन सा मंत्रों का जाप करना उचित रहेगा।

तुला राशि- भाग्य उन्नति में कुछ रुकावटें आ सकती है तथा अधिकारियों से मतभेद भी हो सकता है। धर्म-कर्म के मामलों अधिक ध्यान लगाएं, कुछ भाग्य बाधा आएगी किंतु हताश ना हों थोड़े दिन बाद इसमें सुधार आना आरंभ हो जाएगा। जितनी मेहनत करेंगे उसका आधा फल ही आपको मिलेगा। ॐ नमः शिवाय करालं महाकाल कालं कृपालं ॐ नमः शिवाय मंत्र का जप परेशानियों से मुक्त करेगा।

वृश्चिक राशि- ग्रह गोचर कुछ हफ्तों तक परेशान करेंगे। स्वास्थ्य संबंधित चिंता तंग करेगी। कार्य क्षेत्र में भी गुप्त शत्रुओं से बचते रहें। लोग नीचा दिखाने की पूरी कोशिश करेंगे किन्तु कामयाब नहीं हो पाएंगे। ससुराल पक्ष से रिश्ते बिगड़ने न दें। महामृत्युंजय मंत्र का जप करना आपके लिए सबसे अच्छा रहेगा। या केवल ॐ जूं सः मंत्र का जप भी उत्तम रहेगा।

धनु राशि- साझा व्यापार आरंभ करने का निर्णय नुकसानदेय हो सकता है। पति-पत्नी के स्वास्थ्य में भी कुछ दिक्कत आ सकती हैं। दैनिक व्यापारियों के लिए समय ठीक रहेगा। शादी विवाह से संबंधित वार्ता में भी कुछ विलंब होगा। यात्रा सावधानीपूर्वक करें। ॐ नमः शिवाय करालं महाकाल कालं कृपालं ॐ नमः शिवाय मंत्र का जप उत्तम रहेगा।