Pic Credit: Twitter
Pic Credit: Twitter

    हमारा देश खेती किसानी के लिए बहुत प्रसिद्ध है। यहां तरह-तरह की सब्जियों (Vegetable) की खेती की जाती है। ऐसे में बिहार से एक ऐसी खेती हो रही है जो आपको हैरान करने के लिए काफी है। बिहार के औरंगाबाद जिले (Aurangabad district of Bihar) में एक शख्स ऐसी खेती कर रहा है, जिसके सब्जी की कीमत 1 लाख रुपये प्रति किलोग्राम है। यह सब्जी दुनिया की सबसे महंगी सब्जी भी है। इस महंगी सब्जी का नाम हॉप-शूट्स (hop-shoots) है। हॉप-शूट्स की खोज 11वीं शताब्‍दी (11th century) में की गई थी। तब से इसका उपयोग बीयर (Beer) में फ्लेवरिंग एजेंट (Flavoring agent) के तौर पर किया जाता था। 

    इन सबके अलावा इस सब्जी का यूज़ हर्बल मेडिसिन के टूर पर भी किया जाता है। सतह ही यह अब सब्जी के रूप में जाती है। शूट्स में एक एसिड पाया जाता है, जिसका नाम ह्यूमोलोन्‍स (humulones) और ल्‍यूपोलोन्‍स (lupulones) है। इसके बारे में ऐसा कहा जाता है कि मानव शरीर में कैंसर सेल्‍स को मारने में मदद करते हैं और इसी गन की वजह से ये दुनिया की सबसे महंगी सब्जी है। 

    38 वर्षीय किसान अमरेश सिंह बिहार के औरंगाबाद जिले के नवीनगर ब्‍लॉक में आने वाला करमडीह गांव के रहने वाले हैं। वह भारत के पहले ऐसे किसान हैं, जो हॉप-शूट्स की खेती करते हैं। बता दें कि छह साल पहले उन्‍होंने अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में एक किलोग्राम हॉप-शूट्स को 1000 पौंड में बेचा था, जो भारतीय रुपये में करीब एक लाख रुपये होता है।  हॉप-शूट्स भारतीय बाजार में बेहद काम देखने को मिलती है और इसे स्पेशल ऑर्डर किया जाता है। 

    इस खेती के संदर्भ में अमरेश सिंह कहते हैं कि, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यदि हॉप-शूट्स की खेती को बढ़ावा देने के लिए विशेष कदम उठाते हैं, इससे किसानों को बहुत फायदा होगा। उनकी आय में लगभग 10 गुना की बढ़त होगी। वर्तमान में हॉप-शूट्स की खेती वाराणसी स्थित भारतीय सब्‍जी अनुसंधान संस्‍थान के कृषि वैज्ञानिक डा। लाल की देखरेख में की जा रही है।

    वह बताते हैं कि उन्‍होंने दो महीने पहले ही वाराणसी स्थित भारतीय सब्‍जी अनुसंधान संस्‍थान से इस सब्‍जी के बीज लाकर अपने खेत में लगाए हैं। वहीं उन्हें उम्मीद है कि इससे उनकी खेती में बदलाव होगा और उनकी मेहनत सफल होगी। बता दें कि हॉप-शूट्स के फल, फुल और तने का यूज़ ड्रिंक्स, बीयर बनाने और एंटीबायोटिक्‍स जैसी दवाईयों को बनाने में किया जाता है।