MAMTA

    कोलकाता. पश्चिम बंगाल में विधान सभा चुनावों के नजदीक आते ही राजनीतिक सरगर्मियां अपने चरम पर आ चुकी हैं।  वहीं आज तृणमूल कांग्रेस (TMC) प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) चोट लगने के बाद पहली बार सार्वजनिक रूप से सबके सामने आ रही हैं। जी हाँ CM ममता आज अपने व्हीलचेयर पर पदयात्रा करेंगी। मीडिया रिपोर्ट्स की मुताबिक आज वे दोपहर 1 बजे कोलकाता में अपनी पदयात्रा करेंगी। इस दौरान वह दक्षिण कोलकाता में मेयो रोड पर गांधी की प्रतिमा से अपनी पदयात्रा आरंम्भ करेंगी। वहीं अब उनकी पार्टी TMC ने भी आज अपने कार्यक्रम में थोडा बदलाव किया है। इसके तहत आज पार्टी अपना चुनावी मेनिफेस्टो या घोषणापत्र जारी नहीं करेगी। 

    आज ममता अपने व्हील चेयर पर करेंगी जनसभा:

    गौरतलब है कि आज पश्चिम बंगाल में TMC अपना चुनावी घोषणापत्र जारी करने वाली थी। लेकिन अब इसे फिलहाल स्थगित किया गया है। हालाँकि, ममता बनर्जी चोट के बाद पहली बार मंच पर अपनी व्हील चेयर पर नजर आने वाली हैं। वह आज यानी रविवार को चुनावी मैदान पर एक बार फिर उतरेंगी। अगर पार्टी सूत्रों की मानें तो इसके बाद वह आगामी 15 मार्च से अपनी जनसभा की शुरुआत करेंगी। CM ममता आगामी 15 मार्च को पुरुलिया, 16 मार्च को बांकुरा और 17 मार्च को झारग्राम में अपनी रैली करेंगी। 

    विशेष पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट, नहीं हुआ CM ममता पर हमला:

    विदित हो कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के चोटिल होने के विषय पर विशेष पर्यवेक्षकों की टीम ने अब निर्वाचन आयोग को अपनी रिपोर्ट सौंपी है। इस रिपोर्ट में यह लिखा गया है कि मुख्यमंत्री दुर्घटना की वजह सेही घायल हुई हैं। यह भी बताया गया है कि मुख्यमंत्री अपनी भारी सुरक्षा के बीच थीं। इसके साथ ही पर्यवेक्षकों ने किसी भी तरह के हमले की आशंका को सिरे से नकार दिया है। वहीं अब मुख्य सचिव आलापन बंदोपाध्याय ने भी निर्वाचन आयोग को अपनी नई जांच रिपोर्ट सौंप दी है।

    क्या टिकैत हुए TMC में शामिल?

    वहीं कृषि कानूनों (Agriculture Bill) के विरोध में आंदोलन कर रहे किसान संगठनों (Farmer Organization) का प्रदर्शन अब राजनीतिक आंदोलन (Political Protest) हो गया है। यह तब देखने को मिला जब बीते शनिवार को भारतीय किसान यूनियन (Bhartiya Kisan Union) के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कोलकाता (Kolkata) और नंदीग्राम (Nandigram) में महाकिसन पंचायत (Kisan Mahapanchayat) को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने, “बीजेपी को धोकेबाज पार्टी बताया साथी ही आगामी चुनाव में उसे मतदान नहीं करने की अपील लोगों से किया।” आपको बता दें कि पहले टिकैत न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलने की बात करते थे, लेकिन अब जब से विधानसभा चुनावों की घोषणा हुई है वह सिर्फ बीजेपी को हराने की बात कर रहे हैं। वह लगातार बीजेपी और केंद्र सरकार पर हमला कर रहे हैं, लेकिन इसी दौरान वह पश्चिम बंगाल में किसानों की जो हालात पर कुछ नहीं बोल रहे है और न ही इसके लिए ममता सरकार पर सवाल उठा रहे हैं।

    यह भी गौर करने लायक बात जय कि टिकैत जैसे ही पश्चिम बंगाल पहुंचे तृणमूल कांग्रेस डोला सेना उनकी अगवानी करने के लिए एयरपोर्ट पर पहुंची। इसके बाद वह TMC सांसद की गाड़ी में पूर्व मेदिनापुर और नंदीग्राम में आयोजित किसान महापंचायत में सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर के साथ पहुंचे और सभा को संबोधित किया। 

    अमित शाह भी सोमवार को बंगाल में:

    इधर आगामी सोमवार को गृहमंत्री अमित शाह पश्चिम बंगाल के झाड़ग्राम और रानीबंद में अपनी जनसभाओं को संबोधित करेंगे। वहीं बंगाल BJP पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि शाह और बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा पश्चिम बंगाल में पार्टी के उन 129 कार्यकर्ताओं के परिवारों से भी मुलाकात कर सकते हैं, जो बीते पांच साल में कथित रूप से राजनीतिक हिंसा में अपने प्राण गँवाए हैं।सूत्रों की मानें तो अमित शाह जहाँ पार्टी के 86 मृत कार्यकर्ताओं के परिवारों के सदस्यों से मुलाकात करेंगे। वहीं नड्डा शेष परिवारों से मुलाकात करेंगे।

    गौरतलब है कि इस बार पश्चिम बंगाल की कुल 294 सीटों पर 8 चरणों में चुनाव होना है। यहाँ शुरुआती चरण में 27 मार्च को मतदान होगा। इनके बाद क्रमशः 1, 6, 10, 17, 22, 26 और 29 अप्रैल को यहाँ मतदान होगा। वहीं आगामी 2 मई 2021 को अन्य राज्यों के साथ ही यहाँ के भी चुनाव परिणाम आएंगे। जिसमे आने पश्चिम बंगाल की राजनीतिक तस्वीर साफ़ हो जाएगी।