कुर्सी का मोह उद्धव को कर रहा है केंद्र से ”पंगा” लेने पर मजबूर

मुंबई: देश में अभी तक CAA और NRC विवाद खत्म नहीं हुआ कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक बड़ा बयान दिया है। शिवसेना के मुखपत्र सामना में अपने साक्षात्कार में ठाकरे ने कहा, ''नागरिकता संशोधन

मुंबई: देश में अभी तक CAA और NRC विवाद खत्म नहीं हुआ कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक बड़ा बयान दिया है। शिवसेना के मुखपत्र सामना में अपने साक्षात्कार में ठाकरे ने कहा, ‘नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) नागरिकता को छीनने के बारे में नहीं है, यह देने के बारे में है। हिंदुओं और मुसलमानों दोनों के लिए नागरिकता साबित करना मुश्किल होगा। मैं ऐसा नहीं होने दूंगा।’

हालांकि इससे पहले जब लोकसभा में इन विषयों पर बात हो रही थी तब शिवसेना ने भाजपा का पूरा समर्थन किया था।  लेकिन यही नागरिकता संशोधन बिल जब लोकसभा से पारित होकर राज्यसभा पहुंचा, तो शिवसेना ने सदन से वाक आउट किया था। इसके बाद संसद के दोनों सदनों से नागरिकता संशोधन बिल पारित हो गया था और राष्ट्रपति की मंजूरी से कानून बन गया था। यह सब होने के बाद भी शिवसेना ने हिंदुत्व अपनी हिंदुत्व का नारा  छोड़ा हैं। 

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने साफ़ कर दिया है कि राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) को लागू नहीं करेंगे। इससे क्या हम यह कयास लगा सकते है कि उद्धव बड़े ही हिसाब से जनता को अपनी जेब में कर केंद्र सरकार से ‘पंगा’ लेने का सोच रहे हैं। वैसे भी राजनीति एक प्रकार से कब्बड्डी का ही तो खेल है जहां बिना पंगा लिए जीत मिलना मुश्किल हैं।