महाराष्ट्र: CM का राज ठाकरे पर पलटवार, कहा शिवसेना अभी भी भगवा

मुंबई, महाराष्ट्र में चुनावी घमासान फिर शुरू हो चुका है। इस बार इस घमासान का मुद्दा ठाकरे परिवार खुद है। आपको बता दें कि यह पूरा मुद्दा तब शुरू हुआ जब मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने एक चुनावी रैली में अपने

मुंबई, महाराष्ट्र में चुनावी घमासान फिर शुरू हो चुका है। इस बार इस घमासान का मुद्दा ठाकरे परिवार खुद है। आपको बता दें कि यह पूरा मुद्दा तब शुरू हुआ जब मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने एक चुनावी रैली में अपने चचेरे भाई और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर पार्टी -ध्वज और उनके महा विकास अघाड़ी में सम्मिलित होने पर छींटा-काशी की, हालाँकि इस पर उद्धव ठाकरे ने भी जवाब देते हुए कहा कि कि शिवसेना आंतरिक और बाह्य रूप से अभी भी "भगवा" (नारंगी) है।

विदित हो कि कल महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने अपनी पार्टी का नया भगवा झंडा जारी करके और पाकिस्तानी, बांग्लादेशी घुसपैठियों को देश से बाहर करने के लिए राजग सरकार को समर्थन देने की घोषणा कर संकेत दिया कि वह अपने चाचा बाल ठाकरे की हिंदुत्व की विचारधारा की ओर बढ़ना चाहते हैं। इसके साथ ही उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) तथा राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) का भी बचाव किया।इसके साथ ही राज ठाकरे कहा कि ‘‘मैं मराठी हूं और हिंदू भी। मैंने अपना धर्म नहीं बदला है। अगर मेरे अंदर के मराठी को छेड़ने की कोशिश होगी तो मैं मराठी के रूप में उस आदमी के पीछे पड़ जाऊंगा और यदि कोई मेरे अंदर के हिंदू को छेड़ता है तो उसके पीछे हिंदू की तरह पड़ जाऊंगा।" इससे पहले उन्होंने आज दिन में अपनी पार्टी का नया झंडा जारी किया जो पूरी तरह भगवा है और उसमें छत्रपति शिवाजी महाराज की ‘राजमुद्रा’ का चित्र है।

वहीं कल गोरेगांव में NESCO सेंटर में मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने संबोधन के दौरान अपने चचेरे भाई और शिवसेना प्रमुख, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर ‘सरकार बनाने के लिए रंग बदलने’ पर चुटकी ली। उन्होंने कहा कि , ‘ मैं सरकार गठन के लिए अपने रंग नहीं बदलता"। उन्होंने यह भी दावा किया कि शिवसेना ने "भगवा" और हिंदुत्व की विचारधारा को खो दिया है। वही इस बात पर उद्धव ठाकरे ने भी पलटवार करते हुए कहा कि शिवसेना हमेशा "भगवा" थी और रहेगी। उद्धव ठाकरे ने मुंबई में अपने पिता और अनुभवी राजनीतिज्ञ और कार्टूनिस्ट बालासाहेब ठाकरे की जयंती के दौरान भीड़ को संबोधित किया। उन्होंने चुटकी ली कि शिवसेना आंतरिक और बाह्य रूप से अभी भी "भगवा" है।