केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की उम्र में निधन, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने जताया शोक

नई दिल्ली: लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) के नेता और केंद्र सरकार में मंत्री रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) का 74 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है. वह पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे. उन्हें इलाज के लिए दिल्ली स्थित एस्कार्ट अस्पताल में भर्ती थे. जहां उन्होंने आज अंतिम संस ली. उनके निधन की जानकरी उनके बेटे  चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने ट्वीट कर दी. चिराग ने ट्वीट में लिखा, “पापा….अब आप इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं.”

ज्ञात हो कि  केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान का दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था. कुछ दिन पहले ही उनके दिल का एक  एक ऑपरेशन भी हुआ था. यह बात भी चिराग पासवान ने ही ट्वीट कर शेयर की थी. चिराग पासवान ने ट्वीट किया था कि , “पिछले कई दिनों से पिता जी का अस्पताल में इलाज चल रहा है. कल (शनिवार) शाम अचानक उत्पन्न हुई परिस्थितियों की वजह से देर रात उनके दिल का ऑपरेशन करना पड़ा.”

देश में एक दिन का राजकीय शोक 
केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने बृहस्पतिवार देर रात घोषणा की कि केन्द्रीय मंत्री पासवान के निधन पर उनके सम्मान में शुक्रवार को दिल्ली, सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की राजधानियों में तिरंगा आधा झुका रहेगा. केन्द्रीय मंत्री का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा.

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया, ‘‘दिल्ली और राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों की राजधानियों में, जहां हमेशा तिरंगा लहराता है, वहां नौ अक्टूबर को और उनके अंतिम संस्कार वाले दिन, जहां उन्हें अंतिम विदाई दी जाएगी राष्ट्रीय ध्वज (तिरंगा) आधा झुका रहेगा.

रामविलास पासवान के निधन के बाद पुरे देश में शोक का माहौल है. प्रधानमंत्री मोदी, राष्ट्रपति समेत तमाम लोगों ने उनकी मृत्यु पर शोक जताया है. 

राम विलास पासवान जी का निधन व्यक्तिगत क्षति
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  ने शोक जताते हुए कहा, “मैं शब्दों से परे दुखी हूं। हमारे राष्ट्र में एक शून्य है जो शायद कभी नहीं भरेगा। श्री राम विलास पासवान जी का निधन एक व्यक्तिगत क्षति है। मैंने एक दोस्त, मूल्यवान सहयोगी और किसी को खो दिया है, जो हर गरीब व्यक्ति को यह सुनिश्चित करने के लिए बेहद भावुक था कि वह गरिमा का जीवन जीते हैं.”

देश ने एक दूरदर्शी नेता खो दिया
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, “केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन से देश ने एक दूरदर्शी नेता खो दिया है. उनकी गणना सर्वाधिक सक्रिय तथा सबसे लंबे समय तक जनसेवा करने वाले सांसदों में की जाती है. वे वंचित वर्गों की आवाज़ मुखर करने वाले तथा हाशिए के लोगों के लिए सतत संघर्षरत रहने वाले जनसेवक थे.”

ग़रीब-दलित वर्ग ने बुलंद राजनैतिक आवाज़ खोदी
कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने संवेदनाएँ जताते हुए कहा, “रामविलास पासवान जी के असमय निधन का समाचार दुखद है. ग़रीब-दलित वर्ग ने आज अपनी एक बुलंद राजनैतिक आवाज़ खो दी. उनके परिवारजनों को मेरी संवेदनाएँ.”

निधन की खबर से मैं स्तब्ध 
केद्रीय परिवहन और राष्ट्रीय महामार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, “केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान जी के निधन की खबर से मैं स्तब्ध हूं. उनको मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि. गरीब, वंचित तथा शोषितों के उत्थान में पासवान जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और परिजनों को संबल दे. ॐ शांति.”

 भारतीय राजनीति में अपूरणीय क्षति
स्मृति ईरानी ने कहा, “सामाजिक न्याय के लिए जीवन समर्पित करने वाले, केंद्रीय मंत्री श्री रामविलास पासवान जी के निधन की ख़बर से स्तब्ध हूँ। उनका जाना भारतीय राजनीति में अपूरणीय क्षति है। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति एवं परिजनों को इस दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें। ॐ शांति.”

व्यक्तिगत तौर पर दुःख पहुंचा
बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने शोक जताते हुए कहा, “केंद्रीय मंत्री एवं लोकप्रिय राजनेता राम विलास पासवान जी के निधन से मुझे व्यक्तिगत तौर पर दुःख पहुंचा है। उनका निधन भारतीय राजनीति के लिए अपूरणीय क्षति है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें।”

देश के समाजवादी आंदोलन के एक प्रखर नेता
केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, “राम विलास पासवान जी के निधन पर मेरी असीम संवेदना और श्रद्धांजलि। वे देश के समाजवादी आंदोलन के एक प्रखर नेता थे और उन्होंने अपना सारा जीवन दलितों और उपेक्षितों के कल्याण में लगाया। राम विलास जी भारत सरकार में वरिष्ठ मंत्री रहे। मैं अटल जी की सरकार में पहली बार उन्हीं के साथ कोयला खान राज्य मंत्री था। उनका निधन देश के लिए अपूरणीय क्षति है। मेरी विनम्र श्रद्धांजलि। ॐ शांति।