शशि थरूर का यु-टर्न; पहले की मोदी सरकार की आलोचना, अब प्रतिबंध लगाने के फैसले पर उठाया सवाल

    नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री और तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस के सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने वैक्सीन निर्यात (Vaccine Export) पर बड़ा यू-टर्न ले लिया है। थरूर ने पहले जहां निर्यात को लेकर मोदी सरकार (Modi Government) पर हमला बोला था, वहीं अब लगाए प्रतिबंध पर सवाल उठाए हैं। बीते सोमवार को डब्ल्यूएचओ (WHO) की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन (Somya Swaminathan) की एक टिप्पणी का हवाला देते हुए कहा कि “सरकार को वैक्सीन निर्यात प्रतिबंध पर शर्म से सिर झुकाना चाहिए”।

    कांग्रेस नेता ने ट्वीट में लिखा, “जब डब्ल्यूएचओ के एक वरिष्ठ अधिकारी, एक प्रतिष्ठित भारतीय, कहते हैं कि वैक्सीन निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के भारत के फैसले का 91 देशों पर गंभीर प्रभाव पड़ा है, तो “विश्वगुरु” को अपना (सरकार) सिर शर्म से झुका देना चाहिए।”

    ज्ञात हो कि, कांग्रेस और उसके नेता लगातार मोदी सरकार पर वैक्सीन निर्यात को लेकर हमलावर है। साथ ही सोशल मीडिया पर कैपिन भी चला रही है। इसी क्रम में पिछले दिनों ट्विटर पर “मोदी जी, हमारे बच्चों की वैक्सीन भारत क्यों भेज दिए?” को ट्रेंड करवाया था। राहुल गांधी, थरूर समेत सभी विपक्षी नेताओं ने इस को लेकर ट्वीट किया था। 

    इसी कैंपेन के तरह 16 मई को किए ट्वीट में कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री मोदी पर वैक्सीन बेचने का आरोप लगाया था। थरूर ने किए ट्वीट में लिखा था कि, “संघर्षरत कोविड रोगियों की मदद करने के बजाय, भारत सरकार की दिल्ली पुलिस ने 17 प्राथमिकी दर्ज की हैं और 15 लोगों (दैनिक वेतन भोगी श्रमिकों, एक चित्रकार, ऑटो चालक) को पोस्टर चिपकाने के लिए गिरफ्तार किया है, “मोदीजी, आपने हमारे बच्चों के टीके विदेशों में क्यों भेजे?” 

    टीकाकरण नीति बनाने में असफल 

    विपक्ष सरकार पर टीकाकरण नीति पर निशाना साधा रही है। विपक्षी दलों ने आरोप लगाया है कि सरकार 130 करोड़ भारतीयों को टीका लगाने के लिए एक ठोस टीकाकरण नीति लाने में विफल रही है।