कोरोना महामारी की दूसरी लहर के मद्देनजर 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं रद्द करने के केंद्र के निर्णय का राज्यों ने स्वागत किया है। कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने कहा है कि, विद्यार्थियों और अध्यापकों की सुरक्षा के लिए इसकी जरूरत थी। मंगलवार को पीएम मोदी ने कहा कि, यह फैसला छात्रों के हितों को ध्यान में रखकर लिया गया है। सरकार के इस फैसले का स्वागत करते हुए दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने  कहा, यह करीब डेढ़ करोड़ बच्चों की सुरक्षा का सवाल था। मुझे खुशी है कि बारहवीं की परीक्षा रद्द कर दी गयी है। ये एक बड़ी राहत की बात है।