kailash vijayvargiya

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta party) महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने बंगाल के मुख्यमंत्री उम्मीदवार (CM Candidate) को लेकर बड़ा ऐलान किया है। बुधवार को पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा, “पश्चिम बंगाल विधानसभा (West Bengal Assembly Election) चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा पेश नहीं किया जाएगा। बहुमत हासिल करने के बाद, पार्टी नेतृत्व और विधायक तय करेंगे कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा।”

ज्ञात हो कि, पिछले दिनों बिश्नुपुर से सांसद सौमित्र खान ने मुख्यमंत्री पद को लेकर बड़ा बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि चुनाव में अगर भाजपा को बहुमत मिलेगा तो वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष मुख्यमंत्री बनेंगे। खान के इस बयान पर पार्टी शीर्ष नेतृत्व ने उन्हें जमकर फटकार लगाई थी। इसी के साथ उन्हें तुरंत बयान वापस लेने को भी कहा था। 

भाजपा ने झोंकी पूरी ताकत

बंगाल में विधानसभा चुनाव होने में अभी तीन से चार महीनों का वक़्त है, लेकिन उसके पहले ही भाजपा जोर-शोर से प्रचार में लगी हुई है। रोजाना राज्य के अलग अलग जिलों में शो और    चुनाव सभा कर लोगों तक पहुँचने में लगी हुई है। रोजाना कोई ना कोई केंद्रीय मंत्री और पार्टी का बड़ा नेताओं का दौरा लगा हुआ है। इसी के साथ गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा हर महीने राज्य का दौर कर रहे हैं।

नंदीग्राम में भाजपा को जीताने की जिम्मदारी मेरी 

भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी ने एक बार मुख्यमंत्री ममता पर निशाना साधा है। हुबली में आयोजित एक रोड शो में उन्होंने कहा, “मैं बीजेपी के टिकट पर नंदीग्राम से चुनाव लड़ने वालों की जीत सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी लेता हूं। दीदी (ममता बनर्जी) ने 62,000 मतों के आधार पर वहां से चुनाव लड़ने की घोषणा की है, लेकिन मेरे पास 2.13 लाख लोग हैं, जो ‘जय श्री राम’ का जाप करते हैं।”

उन्होंने कहा, “एक रैली में टीएमसी के प्रदेश अध्यक्ष सुब्रत बख्शी ने कहा – ‘जय श्री राम नहीं चलेगा’। चुनावों में, नंदीग्राम के लोग इस तरह के नारे लगाने वालों को करारा जवाब देंगे।”