ABHISHEK-RUJIRA

    कोलकाता. जहाँ पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव की गर्मी अपने चरम पर है वहीं इन सबके बीच आज सीबीआई भी अपने एक्शन मोड में है। जहाँ अब कोल स्मगलिंग में जांच की आंच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Bannerjee) के परिवार तक भी पहुंच चुकी है। वहीं आज इसी क्रम में ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी (Abhishek) की पत्नी रुजिरा नरूला (Rujira Naroola) से CBI फिर सघन पूछताछ कर सकती है। इसी बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने भतीजे एवं तृणमूल कांग्रेस के नेता अभिषेक बनर्जी के आवास उनसे मिलने पहुंची थी। 

    ख़बरों के अनुसार अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा नरूला को आज सीबीआई के सामने पेश होने को कहा गया है।  उधर सूत्रों के अनुसार पूछताछ के लिए रुजिरा नरूला सीबीआई के सामने पेश होंगी।  लेकिन उनसे केवल गवाह के तौर पर पूछताछ की जानी है।  इसके साथ ही CBI ने उन्हें छानबीन में अपना सहयोग करने को कहा गया है।  गौरतलब है कि बीते रविवार को CBI ने रअभिषेक की पत्नि रुजिरा बनर्जी को नोटिस दिया था।  जिस पर रुजिरा नरूला बनर्जी ने बीते सोमवार को एक चिट्ठी लिखकर सीबीआई के अधिकारियों से घर पर 23 फरवरी को पूछताछ के लिए कहा था। 

    इसी बीच खबर यह है कि CBI ने सांसद और TMC नेता अभिषेक बनर्जी की साली से भी सघन पूछताछ की की है।  अभिषेक बनर्जी की साली मेनका गंभीर के घर CBI की टीम सोमवार को पहुंची थी।  बताया जा रहा है कि करीब तीन घंटे सीबीआई की टीम मेनका गंभीर से जरुरी पूछताछ की थी।  

    जानें क्या है मामला? 

    दरअसल केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने 27 नवंबर, 2020 को ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड (ECL) के कई अधिकारियों-कर्मचारियों और अनूप मांझी उर्फ लाला, सीआईएसएफ और रेलवे के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था।  उन पर यह आरोप था कि ECL, सीआईएसएफ, रेलवे और संबंधित अन्य विभागों के अधिकारियों की मिलीभगत से ECL के लीजहोल्ड क्षेत्र से कोयले की चोरी और तस्करी की गई है । 

    विदित हो कि CBI ने इसके पहले भी अभिषेक बनर्जी के कई करीबियों के खिलाफ छापेमारी कर चुकी है या कर रही है। इसके पहले बीते 31 दिसंबर 2020 को कोलकाता में तृणमूल यूथ कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी विनय मिश्रा के ठिकानों पर भी छापेमारी हुई थी। यह कथित रेड, मवेशी तस्करी घोटाले को लेकर हुई  थी। वैसे भी विनय मिश्रा को अभिषेक बनर्जी का करीबी माना जाता है। वहीं अनूप माझी उर्फ लाला पर पश्चिम बंगाल और झारखंड की सीमा पर कोयले की तस्करी में कथित रूप से शामिल होने के आरोप हैं।

    माझी पर यह भी आरोप लगे हैं कि उसके पश्चिम बंगाल की ममता सरकार से मजबूत राजनीतिक संबंध हैं और उनकी संपत्ति भी करोड़ों में है। वहीं मांझी उर्फ लाला कुनुस्तोरिया और काजोरा क्षेत्रों में ईसीएल की पट्टे पर दी गईं खदानों से कोयले के अवैध खनन और चोरी में भी लिप्त है। पश्चिम बंगाल में इस साल अप्रैल-मई में चुनाव होना है, जहां भाजपा ने तृणमूल कांग्रेस को अपदस्थ करने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है।