MAMTA-ABHISHEK

    कोलकाता. खबर के अनुसार पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Bannerjee) के भतीजे अभिषेक बनर्जी (Abhishek Bannerjee) की पत्नी रुजिरा नरूला (Rujira Naroola) से CBI की पूछताछ अब ख़त्म हो गयी है। गौरतलब है कि ये पूछताछ आज करीब डेढ़ घंटे चली।  इसके बाद CBI की टीम अभिषेक बनर्जी के घर से निकल गई है। दरअसल आज सीबीआई (CBI) की एक टीम मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी के दक्षिण कोलकाता स्थित आवास पर उनकी पत्नी रुजिरा से कथित कोयला चोरी मामले में पूछताछ करने पहुंची थी। 

    बता दें कि CBI की टीम के वहां पहुँचने से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने भतीजे एंव तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी के दक्षिण कोलकाता में हरीश मुखर्जी रोड स्थित आवास पर उनसे मुलाकात करने पहुंची थी। मुख्यमंत्री ममता यहां केवल 10 मिनट ही रुकी थीं। बता दें कि कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा बनर्जी ने सोमवार को सीबीआई के समन का जवाब देते हुए कहा था कि कथित कोयला चोरी घोटाले में पूछताछ के लिए वह 23 फरवरी 2021 को पूर्वाह्न 11 बजे से अपराह्न तीन बजे तक उपलब्ध रहेंगी।

    बताया जा रहा है कि अवैध कोयला उत्खनन मामले में सीबीआई ने रुजिरा के बैंक लेनदेन का विवरण मांगा है। इसके पहले सीबीआई ने बीते सोमवार को रुजिरा की बहन मेनका गंभीर से भी इस मामले में गहन पूछताछ की थी। CBI की दो महिला अधिकारी पूछताछ के लिए बीते सोमवार को रुजिरा की बहन मेनका गंभीर के कोलकाता स्थित आवास पहुंची थी और उनसे करीब तीन घंटे तक उनसे पूछताछ की थी। इधर इन सब मुद्दों पर ममता सरकार ने आरोप लगाया है कि पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों से पहले तृणमूल कांग्रेस के नेता के रिश्तेदारों से एजेंसी पूछताछ क्यों कर रही है।

    गौरतलब है कि राज्य में आगामी अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। बता दें कि केन्द्रीय जांच एजेंसी यानी की CBI ने गत नवंबर 2020 में चोरी रैकेट के कथित सरगना मांझी उर्फ लाला, ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड (ईसीएल) के महाप्रबंधकों-अमित कुमार धर (तत्कालीन कुनुस्तोरिया क्षेत्र और अब पांडवेश्वर क्षेत्र) तथा जयेश चंद्र राय (काजोर क्षेत्र) , ईसीएल के सुरक्षा प्रमुख तन्मय दास, क्षेत्र सुरक्षा निरीक्षक, कुनुस्तोरिया, धनंजय राय और एसएसआई एवं काजोर क्षेत्र के सुरक्षा प्रभारी देबाशीष मुखर्जी के खिलाफ FIR दर्ज की थी। यह भी आरोप है कि मांझी उर्फ लाला कुनुस्तोरिया और काजोर क्षेत्रों में ईसीएल की पट्टे पर दी गईं खदानों से कोयले के अवैध खनन और चोरी में पूरी तरह से लिप्त हैं।