Yeddyurappa

कर्नाटक, कर्नाटक में सियासत और जाट-पात को लेकर एक नया घमासान शुरू हो गया है और इसमें एक बार फिर मुख्यमंत्री येदुरप्पा और बीजेपी केंद्रबिंदु बन गयी है। ताजा घटनाक्रम में कल हवेरी में एक कार्यक्रम के

कर्नाटक, कर्नाटक में सियासत और जाट-पात को लेकर एक नया घमासान शुरू हो गया है और इसमें एक बार फिर मुख्यमंत्री येदुरप्पा और बीजेपी केंद्रबिंदु बन गयी है। ताजा घटनाक्रम में कल हवेरी में एक कार्यक्रम के मंच में पंचमाली मठ के वचनानंद स्वामी के साथ हुई बहस के बाद आज येदुरप्पा ने अपने त्यागपत्र की पेशकश कर दी है। 

आपको बता दें कि कल कर्नाटक के हवेरी में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री येदुरप्पा और पंचमसाली मठ के सेवक वचनानंद स्वामी के बीच एक बहस छिड़ गयी थी। इसका मुख्य कारण वचनानंद स्वामी का मुरुगेश निरानी के लिए मंत्री पद की मांग करना था। यही नहीं वचनानंद स्वामी ने यह भी कह दिया कि "अगर उनकी यह मांग नहीं मानी गयी तो येदुरप्पा पंचमाली लिंगायतों का समर्थन खो देंगे।"
 
इसके जवाब में कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा ने कह कि " मुझे मुख्यमन्त्री बनाने के लिये 17 विधायकों ने त्यागपत्र दे दिया था । अगर मठ चाहे तो मुझे सुझाव् दे सकते हैं कि 3 साल के लिए कैसे शासन करना है, लेकिन आप मेरे कोई अनुरोध को नहीं सुनेंगे या स्वीकार नहीं करना चाहते हैं तो मैं मुख्यमंत्री पद से त्याग पत्र देकर घर जाने को तैयार हूँ"। 

 
ख़बरों के अनुसार कल हवेरी में एक कार्यक्रम के मंच पर पंचमाली मठ के वचनानंद स्वामी के साथ हुए इस बहस के बाद फिलहाल पंचमेस लिंगायत समुदाय के लिए मंत्री पद को लेकर वर्तमान मंत्रियों के बीच समायोजन के बारे में कोई चर्चा अभी तक मुख्यमंत्री येदुरप्पा ने नहीं की है।