Invitation to Yogi to lay the foundation stone of the mosque

मथुरा. हाथरस के कथित सामूहिक दुष्कर्म (Hathras Gang Rape) की घटना के विरोध के दौरान पुलिस की लाठियों के शिकार राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) उपाध्यक्ष एवं पूर्व सांसद जयंत चौधरी (Jayant Chaudhary) ने उस घटना एवं हाल में लागू कृषि कानूनों के विरोध में मथुरा के बालाजीपुरम इलाके में हाईवे के किनारे महापंचायत का आयोजन किया।

इस मौके पर उन्होंने घोषणा की कि जब तक उत्तर प्रदेश से योगी की सरकार को उखाड़ नहीं देंगे, चैन से नहीं बैठेंगे। इस महापंचायत में उत्तर प्रदेश से रालोद व समाजवादी पार्टी, पंजाब से अकाली दल, हरियाणा से इनेलो आदि राजनीतिक दलों के नेताओं ने भाग लिया और तय किया कि उत्तर प्रदेश से योगी सरकार को अगली बार सत्ता पर काबिज नहीं होने देंगे तथा केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लागू किसान विरोधी कानूनों खिलाफ लड़ाई जारी रखेंगे।

पंचायत में रालोद नेता ने हजारों की संख्या में जुटे किसानों से कहा, “यह सरकार अपराधियों पर से नियंत्रण खो चुकी है। इसे दुबारा सत्ता में नहीं आने देना चाहिए, इसलिए यदि आप अपने हक के लिए लड़ाई लड़ने को तैयार हैं, तो मैं आपके लिए लाठी खाने को तैयार हूं।” उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित करते हुए नारा दिया, “यूपी पुलिस से बैर नहीं, बाबा तेरी खैर नहीं”।

सपा के सांसद धर्मेंद्र यादव ने किसानों की दुर्दशा का चित्रण करते हुए कहा, “समाजवादी पार्टी भी किसान हितैषी हर लड़ाई में साथ देने को तैयार है।”

उन्होंने हाथरस में कथित रूप से सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता के परिवार को न्याय दिलाने की मांग कर रहे पूर्व सांसद जयंत चौधरी व रालोद के अन्य नेताओं पर हुए लाठीचार्ज की निन्दा करते हुए इसका बदला लिए जाने की बात कही। इस मौके पर अकाली दल के जसमीत सिंह बराड़ एवं इनेलो के अजय चौटाला ने भी कृषि संबंधी कानूनों को किसान विरोधी बताते हुए उनका पुरजोर विरोध किए जाने का आह्वान किया। महापंचायत में उत्तर प्रदेश के अलावा राजस्थान व हरियाणा से आए किसानों ने भी बड़ी संख्या में हिस्सा लिया। (एजेंसी)