File Photo
File Photo

Loading

सब्जी विक्रेता के बैंक खाते में 172 करोड़ रुपये, इनकम टैक्स ने भेजी नोटिस तब हुआ खुलासा, जानें क्या है माजरा 

गाजीपुर: गाजीपुर (Gajipur) से एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है। आयकर विभाग (Income Tax) की ओर से यहां के एक सब्जी विक्रेता को 172.81 करोड़ रुपये के लेनदेन का आयकर रिटर्न (Tax Return) नहीं भरने पर नोटिस (Notice) जारी किया गया है। इस सब्जी विक्रेता का नाम विनोद रस्तोगी है। उनका कहना है कि आयकर विभाग के नोटिस और बैंक खाते (Bank Account) में आई रकम से उनका कोई लेना-देना नहीं है। 

टैक्स की राशि आठ करोड़

साथ ही उन्होंने दावा किया कि किसी ने उनके दस्तावेजों (Document) का इस्तेमाल कर बैंक खाता खुलवाया। आयकर विभाग के वाराणसी (Varanasi) कार्यालय से विनोद रस्तोगी को नोटिस भेजा गया है। यूनियन बैंक (Union Bank) में उनके नाम के खाते में 172 करोड़ रुपये है जैसा कि नोटिस में कहा गया है और टैक्स की राशि आठ करोड़ है। इसमें उल्लेख किया गया है कि उन्होंने अभी तक इस पर कर का भुगतान (Payment) नहीं किया है। नोटिस मिलने के बाद रस्तोगी आयकर विभाग के कार्यालय पहुंचे और वहां से और जानकारी लेने की कोशिश की तो उन्हें कुछ चौंकाने वाला लगा। रस्तोगी ने कहा कि आयकर विभाग द्वारा भेजे गए नोटिस में उल्लिखित बैंक खाता उनका नहीं है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि इतनी बड़ी रकम का लेनदेन पहले कभी नहीं हुआ है।

सूचना मिलने के बाद रस्तोगी सीधे थाने पहुंचे

उन्होंने आरोप लगाया कि किसी ने उनके दस्तावेजों का गलत इस्तेमाल कर बैंक खाता खुलवा दिया। रस्तोगी ने आश्वासन दिया है कि आयकर विभाग के अधिकारियों से मुलाकात कर मामले की जड़ तक जाएंगे और पूरी जांच कराएंगे। 26 फरवरी को रस्तोगी को आयकर विभाग का नोटिस मिला। यह भी खुलासा करने को कहा गया कि आपके बैंक खाते में इतनी बड़ी रकम कैसे आई और आय का स्रोत क्या है। सूचना मिलने के बाद रस्तोगी सीधे थाने (Police Station) पहुंचे। वहां उनके दस्तावेजों की जांच की गई। इस बीच चर्चा है कि रस्तोगी को भी छह महीने पहले इसी तरह का नोटिस मिला था। आयकर विभाग और साइबर पुलिस (Cyber Police) संयुक्त रूप से मामले की जांच कर रही है। रस्तोगी को कुछ दस्तावेज लाने को कहा गया है। उन्हें पहले भी इस तरह का नोटिस मिला था।