अमित शाह ने जाट नेताओं के साथ की बैठक, गृहमंत्री ने कहा- जब भी जाटों से मांगा समुदाय ने कमल खिलाया

    नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में जाटों को साधने का काम फिर से शुरू कर दिया है। इसी क्रम में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने नई दिल्ली भाजपा के सांसद परवेश वर्मा के यहाँ बैठक की। इस बैठक में हरियाणा और पश्चिम उत्तर प्रदेश के 250 बड़े जाट नेताओं के साथ मुलाकात की। इस दौरान केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि, हमने जब भी आप से मांगा हमने पूरा समर्थन देकर कमल खिलाया।”

    जब भी आया जाटों ने दिल खोलकर दिया 

    सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, शाह ने जाट नेताओं से कहा कि, “2014, 2017 और 2019 में आपने दिल खोलकर समर्थन देकर कमल खिलाया। मैं जब भी अपनी झोली लेकर आपने हमारी झोली भर दी।” उन्होंने कहा, “हमने जब जाटों की कुछ बात नहीं मानी तब भी आपने अपना वोट भाजपा को दिया।”

    चौधरी चरणसिंह को मिले भारत रत्न

    बैठक से बाहर निकले एक जाट नेता ने कहा, “हमने (पूर्व पीएम) चौधरी चरण सिंह के लिए भारत रत्न, जाटों के लिए आरक्षण और केंद्र और यूपी सरकार में आनुपातिक प्रतिनिधित्व की मांग की है। गृहमंत्री ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है।”

    हमारा और जाट का रिश्ता 650 साल पुराना

    शाह ने भाजपा और जाटों का वर्षों पुराना नाता बताया। गृहमंत्री ने कहा, “आप का और हमारा नाता 50 साल का नहीं 650 साल पुराना है। क्योंकि, आप ने भी मुगलों से लड़ाई लड़ी है और हम भी लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने आगे कहा, “जितना सम्मान भाजपा ने जाटों को दी है आज तक किसी ने भी नहीं किया है। जब से केंद्र में मोदी और राज्य में भाजपा की सरकार बनी है उत्तर प्रदेश में एक भी दंगा नहीं हुआ है।”

    जयंत चौधरी तो अपने हैं 

    वहीं जयंत चौधरी को लेकर शाह ने कहा कि, “हम भी जयंत चौधरी को चाहते हैं, लेकिन उन्होंने घर गलत चुन लिया है। शाह ने कहा कि, “याद रखिए अगर अखिलेश यादव की सरकार बनी तो राष्ट्रीय लोक दल में जयंत चौधरी की नहीं, बल्कि आज़म खान की चलेगी।” 

    वहीं बैठक की जानकारी देते हुए सांसद परवेश वर्मा ने कहा, “जयंत चौधरी पर उन्होंने (एचएम अमित शाह) कहा कि चुनाव के बाद कई संभावनाएं हैं। फिलहाल उन्होंने एक पार्टी चुनी है. जाट समुदाय के लोग जयंत से बात करेंगे। भाजपा के दरवाजे उनके लिए हमेशा खुले हैं।”

    अखिलेश यादव पर बोला हमला 

    बैठक के दौरान गृहमंत्री अमित शाह ने समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव पर हमला बोला। उन्होंने कहा, “आप अखिलेश यादव की सरकार लाओगे क्या, बताइए? अगर झगड़ा करना है तो मुझसे करिए किसी बाहरी को क्यों ला रहे हैं।”

    ज्ञात हो कि, उत्तर प्रदेश में आठ चरणों में मतदान होने वाला है। वहीं परिणाम 10 मार्च को आएगा। पश्चिम उत्तर प्रदेश में पहले चरण 10 फ़रवरी को मतदान होने वाला है। पहले चरण की 58 सीटों पर चुनाव होंगे। 2017 के परिणाम को देखें तो भाजपा ने जाट बहुल वाली सारी सीटों के साथ 54 सीटों पर कब्ज़ा किया था।