Amit Shah
File Photo

    नयी दिल्ली. जहाँ एक तरफ देश की गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। इस तीन दिन के दौरे पर जम्मू कश्मीर पहुंचे अमित शाह के दौरे का आज दूसरा दिन ख़त्म होने को है। इसी क्रम में आज अमित शाह ने जम्मू में कई योजनाओं का भी शिलान्यास किया। इस दौरान अमित शाह ने कहा कि, यहाँ से धारा 370 हटने के बाद मैं पहली बार जम्मू कश्मीर आया हूं। आज मैं आपसे ये कहने आया हूं कि जम्मू कश्मीर वालों के साथ अन्याय का समय अब खत्म हुआ। अब यहाँ कोई भी आपके साथ अन्याय नहीं कर सकता। अब जम्मू कश्मीर का विकास होगा और ये प्रदेश, देश को आगे बढ़ाने में अपना भरपूर और माकूल योगदान देगा।

    इसके साथ ही शाह ने कहा की, जम्मू कश्मीर की शांति में खलल डालने वालों को हम कभी भी सफल नहीं होने देंगे। उन्होंने साथ ही कहा कि, बीते 5 अगस्त 2019 को प्रधानमंत्री मोदी ने ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए जब अनुच्छेद 370 और 35ए को खत्म किया। तनसे इसके चलते जम्मू-कश्मीर के लाखों लोगों को अपने जरुरी अधिकार प्राप्त हुए हैं। अब भारतीय संविधान के तमाम अधिकार यहां के सभी लोगों को जरुरी रूप से मिल रहे हैं।

    और क्या क्या कहा आज गृह मंत्री अमित शाह ने 

    • आज गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि, जम्मू के लोगों को नजरंदाज करने का वक्त अब समाप्त हो गया है, जम्मू और कश्मीर, दोनों का विकास अब साथ-साथ होगा।
    • उन्होंने ये भी कहा कि, जम्मू कश्मीर के विकास में कोई भी रोड़े नहीं अटका पाएगा। 
    • इसके साथ ही आज रैली को संबोधित करते हुए वे बोले कि, अगर युवा जम्मू कश्मीर के विकास में शामिल होंगे तो आतंकवादी अपने नापाक मंसूबों में विफल हो जायेंगे।
    • वहीं साथ ही उनका कहना था कि, जम्मू कश्मीर में 12 हजार करोड़ रुपये का निवेश अब तक आ चुका है और हमारा लक्ष्य 2022 के अंत तक इसे 51 हजार करोड़ रुपये करने का है ।
    • उन्होंने कहा कि, मोदी जी ने प्रधानमंत्री बनते ही जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए 55,000 करोड़ रुपये का पैकेज दिया था। आज 55,000 करोड़ रुपये के पैकेज में से 33,000 करोड़ रुपये खर्च हो चुका है, विकास की 21 योजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं।

    इसके बाद में अमित शाह ने विरोधी पार्टियों को तंज कसते हुए कहा कि, “मैं उनका नाम तो नहीं लेना चाहता। लेकिन जम्मू कश्मीर में हमेशा तीन परिवारों का शासन रहा है। लेकिन अब ये लोग मुझसे सवाल पूछ रहे थे कि मैं क्या निवेश लाया हूं। भाई मैं तो हिसाब लेकर आया हूं कि क्या देकर जाऊंगा। लेकिन अब मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि आप लोगों ने 7 दशकों में यहाँ क्या किया। आज जम्मू कश्मीर इन लोगों से हिसाब मांग रहा है। लेकिन अब मोदी सरकार में सभी के साथ न्याय होगा, किसी के साथ कोई भी भेदभाव नहीं होगा। 

    देखा जाए तो आगामी 25 अक्टूबर के दिन भी अमित शाह का व्यस्त शेड्यूल है। वे कल SKICC में सिविल सोसाइटी के डेलिगेशन से मुलाकात करेंगे। वहीं गृह मंत्री अमित शाह जवानों के बीच भी पहुंचेंगे। खबर कि वे रात के समय पुलवामा में भी रुक सकते हैं। इसके बाद आगामी 26 अक्टूबर की सुबह अमित शाह राजधानी दिल्ली वापस चले जाएंगे।