vij-amrinder
File Pic

    नयी दिल्ली. एक बड़ी खबर के अनुसार आज तख्तापलट का शिकार हुए पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amrinder Singh) को हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज (Anil Vij) का साथ मिला है। विज ने कैप्टन के राष्ट्रवादी सोच की जमकर तारीफ़ भी की। यही नहीं उन्होंने आज ये भी कहा कि राष्ट्रवादी कैप्टन अमरिंदर सिंह पकिस्तान और नवजोत सिंह सिद्धू के दूषित राजनीतिक पराकाष्ठा के रास्ते में बाधा थे, इसलिए उन्हें राजनीतिक रूप से मार दिया गया। पंजाब में सभी राष्ट्रवादी ताकतों को कांग्रेस के गलत मंसूबों को नाकाम करने के लिए हाथ मिलाना चाहिए।

    उन्होंने आज ये भी कहा कि कि पाकिस्तान समर्थक, राष्ट्रपति इमरान खान और पाक सेना प्रमुख जावेद बाजवा नवजोत सिद्धू व उनके सहयोगियों को किसी भी तरह से सत्ता में लाना चाहते हैं। यह कांग्रेस की गहरी राष्ट्रविरोधी खतरनाक साजिश है। यह लोग भविष्य में पंजाब व पाकिस्तान एक साथ चल सकें। 

    इस्तीफा के बाद कैप्टन ने सिद्धू को बताया था राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा

    दरअसल मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर अनेक गंभीर आरोप लगाए थे। इसके साथ ही कैप्टन ने कहा था कि सिद्धू की पाक PM इमरान खान और सेना प्रमुख बाजवा से दोस्ती है। यह लोग आए दिन पंजाब में ड्रोन से हथियार व नशा भेजते हैं। कश्मीर में हमारे जवान शहीद हो रहे हैं। कैप्टन ने सिद्धू को एक बड़ी तबाही बताते हुए उसे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा कहा था।

    कैप्टन बगावत के मूड में, BJP भी बढ़ा रही नजदीकी

    पता हो कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पहली बार बीती बुधवार रात को सिद्धू व कांग्रेस हाईकमान पर सीधा हमला किया था। इसके साथ ही उन्होंने राहुल गांधी व प्रियंका गांधी को अनुभव हीन भी बताया था। सिद्धू को CM बनने से रोकने के लिए उन्होंने कोई दूसरा मजबूत कैंडिडेट खड़ा करने की भी बात कही। इससे आब बहुत सपष्ट है कि कैप्टन सहाब ने कांग्रेस के खिलाफ अपने बगावती तेवर अख्तियार कर लिए हैं। अब या तो वे खुद कांग्रेस छोड़ रहे हैं या फिर पार्टी से उनकी छुट्‌टी होगी, इसीका सब को इंतजार है।

    हालाँकि खुद कैप्टन ने यह भी साफ कहा था कि वो जीत के बाद राजनीति छोड़ना चाहते थे लेकिन अब इस हार के बाद तो कतई नहीं। शायद इसी वजह से BJP उन्हें अपने खेमे में लाने के लिए नजदीकी बढ़ा रही है और हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज का कैप्टेन के साथ में आना इस बात का बड़ा प्रमाण है।