assam
Pic: ani

    नई दिल्ली/असम. असम (Assam) के नागांव (Nagaon) जिला से आ रही एक बड़ी खबर के अनुसार यहाँ के प्रशासन ने बीते 21 मई को बटादराबा पुलिस थाने में कथित रूप से आग लगाने वाले पांच परिवारों के घरों को आज ध्वस्त कर दिया है।

    गौरतलब है कि असम में पुलिस (Assam Police) हिरासत में एक व्यक्ति की कथित तौर पर मौत के बाद भीड़ ने पुलिस स्टेशन में आग लगा दी थी। यह घटना नगांव जिले में बटाद्रवा में हुई थी। कल यहां आक्रोशित भीड़ ने एक थाने में जमकर तोड़फोड़ की और आग लगा दी थी। इस घटना में पुलिस स्टेशन जलकर खाक हो गया था।

    पुलिस ने घटना पर यह भी कहा था कि घटना में तीन लोग घायल हो गए थे, जबकि तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने यह भी कहा था कि रात में नशे की हालत में सड़क पर पाए जाने के कारण व्यक्ति को थाने लाया गया था।इधर सूत्रों ने बताया था कि बटाद्रवा पुलिस थाने की पुलिस ने सफीकुल इस्लाम को सालनाबारी इलाके से हिरासत में लिया था और कथित तौर पर 10 हजार रुपये की रिश्वत मांगी थी।

    हालाँकि उनके परिवार ने यह भी दावा कियाथाकि पुलिस ने हिरासत में सफीकुल इस्लाम के साथ मारपीट की थी। उनके परिवार के सदस्यों ने कहा कि जब वे आज थाने में उनसे मिलने गए थे, तो उन्हें बताया गया कि वह अस्वस्थ हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। लेकिन अस्पताल पहुंचने पर परिवार को पता चला कि इस्लाम मर चुका है और उसके शव को मुर्दाघर में रख दिया गया है।