farmers
Pic - ANI

    नयी दिल्ली. आज भारत बंद (Bharat Band) है। दरअसल संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के एक साल पूरा होने पर अब एक बार फिर इस बंद को बुलाया है। गौरतलब है कि किसान संगठन चाहते हैं कि मोदी सरकार (Narendra Modi Goverment) विवादस्पद तीन नए कृषि कानूनों को तुरंत वापस ले। बीते एक साल से देश के कई राज्यों में इस नए कानून के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ था। उई प्रकार आज किसान आंदोलन को 300 दिन से भी ज्यादा हो रहे हैं। इस बंद में और संयुक्त किसान मोर्चे में कुल 40 किसान संगठन शामिल हैं। इसके अलावा कई बड़ी राजनीति पार्टियों से भी इस बंद को समर्थन प्राप्त है।

    कैसा है पुलिस का इंतजाम

    इधर बंद की नजाकत को देखते हुए दिल्‍ली पुलिस ने अतिरिक्त सुरक्षा कर्मियों को तैनात कियाहै। इसके अलावा पुलिस उपायुक्त (नई दिल्ली) दीपक यादव ने भी इस बाबत कहा कि भारत बंद के मद्देनजर एहतियातन सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं। वहीं राजधानी की सीमाओं पर तीन विरोध प्रदर्शन स्थलों से किसी भी प्रदर्शनकारी को दिल्ली में प्रवेश करने की आज बिल्कुल भी अनुमति नहीं दी जाएगी।

    क्या कहते हैं राकेश टिकैत 

    आज इस दौरान किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर (Narendra Tomar) के बातचीत के जरिए रास्ता निकालने के बयान पर बड़ा सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा कि, “देश के कृषि मंत्री रट्टू हैं। टिकैत ने कहा कि अगर सरकार कानून में दस साल में सुधार करेगी तो ये आंदोलन 10 साल तक जारी रहेगा। हम अब वापस नहीं जाएंगे।”

    वहीं SKM नेता राकेश टिकैत ने आज कहा कि सभी व्यापारियों और दुकानदारों को बंद का समर्थन करना चाहिए। उन्होंने आज ये भी कहा कि रास्ते बंद रहेंगे, लेकिन अगर कोई डॉक्टर के क्लीनिक जाना चाहता है तो जा सकता है। एंबुलेंस, सब्जी और दूध के वाहन चलेंगे। उन्होंने कहा, ” हम बंद के दौरान दिल्ली के अंदर नहीं जाएंगे। ये आम लोगों का आंदोलन है। लोगों को एक दिन की छुट्टी लेनी चाहिए और चार बजे के बाद ही आज घर से बाहर निकलना चाहिए।”

    कौन दे रहा है ‘बंद’ को समर्थन 

    आज के इस भारत बंद भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक, रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी जैसी वामपंथी पार्टियों ने अपना समर्थन दिया है। वहीं कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप), समाजवादी पार्टी (सपा), तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा), जनता दल (सेक्युलर), बहुजन समाज पार्टी (बसपा), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी), द्रविड़ मुनेत्र कड़गम जैसे कई अन्य दल (DMK) जैसी बड़ी राजनीतिक पार्टीयों ने भी सोमवार के इस भारत बंद के आह्वान को अपना समर्थन किया है।