यूपी विधानसभा चुनाव मद्देनजर भाजपा सांसदों की बैठक खत्म, सभी केंद्रीय मंत्री निकालेंगे आशीर्वाद यात्रा

    नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने अपनी तैयारियों को धार देना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में यूपी से आने वाले सभी भाजपा सांसदों की बैठक बुलाई गई है।नई दिल्ली के कोनसीटूशन क्लब में आयोजित इस बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, यूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह सहित कई वरिष्ठ नेता मौजूद है। 

    सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बैठक को संबोधित करते हुए नड्डा ने भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों की अहमियत पर विस्तार से अपनी बात रखी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित पार्टी के शीर्ष नेताओं के चुनावों के मद्देनजर राज्य में होने वाले कार्यक्रमों को लेकर चर्चा की।

    सूत्रों ने बताया कि पांच अगस्त को प्रधानमंत्री मोदी उत्तर प्रदेश के राशन दुकानदारों के साथ डिजिटल माध्यम से संवाद कर सकते हैं। साथ ही बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए उत्तर प्रदेश के सांसद अपने-अपने संसदीय व आसपास के क्षेत्रों में आशीर्वाद यात्रा निकालेंगे।

    राजधानी स्थित कांस्टीट्यूशन क्लब में हुई इस बैठक में बृज और कानपुर क्षेत्र के सांसदों के अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के भी सांसद मौजूद थे। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के प्रभारी राधामोहन सिंह, राज्य इकाई के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और राज्य के संगठन महामंत्री सुनील बंसल भी बैठक में शामिल हुए।

    बैठक में नड्डा ने सांसदों को टीकाकरण केंद्रों का दौरा करने और वहां लोगों को आ रही परेशानियों को दूर करने तथा कोरोना की तीसरी लहर से बचाव के उपायों के प्रति जनता में जागरुकता फैलाने को कहा। इस दौरान उन्होंने स्वास्थ्य स्वंयसेवकों के बारे में जानकारी दी।  साथ ही सरकार की उपलब्धियों को जन जन तक पहुंचाने का भी उन्हें निर्देश दिया गया।

    बैठक में शामिल वरिष्ठ नेता और मेरठ के सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने भाषा को बताया कि बैठक में केंद्र व राज्य सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों के बारे में सांसदों को विस्तार से बताया गया और उन्हें इसके बारे में जनता को बताने को कहा गया।

    उन्होंने कहा, ‘‘हमारी केंद की सरकार ने और प्रदेश की सरकार ने जो विकास के इतने काम किए हैं उससे उत्तर प्रदेश की छवि बदल गई। इस दौरान विकास के नये आयाम रचे गए। इसके बारे में जनता को बताना है। साथ ही बूथ स्तर पर संगठन को सक्रिय करने के लिए आगामी कार्यक्रमों के आयोजन को लेकर चर्चा हुई।”

    अग्रवाल ने बताया कि पिछले दिनों मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए मंत्री अपने-अपने संसदीय क्षेत्रों में यात्रा निकालेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘जो मंत्री बने हैं वह 15 अगस्त के बाद अपने-अपने क्षेत्रों में जाएंगे। उनका रूट तय होगा और उसके अनुरूप वह यात्रा निकालेंगे। पार्टी उनका रूट बनाएगी।”

    ज्ञात हो कि केंद्रीय मंत्रिपरिषद में पिछले दिनो हुए विस्तार में सबसे ज्यादा प्रतिनिधित्व उत्तर प्रदेश को मिला। विभिन्न जाति व वर्ग से आने वाले प्रदेश के सात सांसदों को मंत्री बनाया गया था। प्रधानमंत्री मोदी सहित केंद्रीय मंत्रिमंडल में अब 15 मंत्री उत्तर प्रदेश से हैं। पहली बार ऐसा हुआ है जब केंद्र सरकार में इतनी बड़ी संख्या में राज्य को प्रतिनिधित्व मिला है। अब पार्टी इसे आगामी विधानसभा चुनाव में भुनाने में जुट गई है।

    सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नड्डा ने अपने संबोधन के दौरान राज्य में कानून व्यवस्था का राज स्थापित करने और भ्रष्टाचार पर नकेल कसने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सराहना की और कहा कि पिछले चार सालों में राज्य को उन्होंने नई ऊंचाई पर पहुंचाया है।

    उन्होंने सभी सांसदों से अपने संसदीय क्षेत्रों के तहत आने वाले विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी की जीत सुनिश्चित करने का जिम्मा लेने को कहा और साथ ही कहा कि 2022 के चुनाव में पिछले चुनाव से ‘‘बड़ी लकीर” खींचनी है। यह बैठक दो दिन की है। बृहस्पतिवार को इस बैठक में अवध, काशी और गोरखपुर क्षेत्र के सांसद मौजूद रहेंगे। उत्तर प्रदेश में भाजपा के 62 लोकसभा और 22 राज्यसभा सदस्य सहित कुल 84 सांसद हैं।