sonia-gandhi
Pic: ANI

    नई दिल्ली/उदयपुर. आज उदयपुर (Udaipur) में चल रहे कांग्रेस (Congress) के तीन दिवसीय चिंतन शिविर की वेलकम स्पीच में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कहा है कि, “पार्टी ने हमें बहुत कुछ दिया है, अब इस कर्ज को उतारने का समय है।” इसके साथ ही आज सोनिया ने कांग्रेस के बड़े नेताओं को त्याग करके पार्टी हित में काम करने की नसीहत भी दी है। 

    आज उन्होंने कहा कि, “अब ऐसा समय आया है कि हमें संगठन हितों के अधीन काम करना होगा। सबसे आग्रह है कि खुलकर अपने विचार रखें, मगर बाहर एक ही संदेश जाना चाहिए संगठन की मजूबती, मजबूत निश्चय और एकता का ।”

    इसके साथ ही आज सोनिया ने कहा कि, “हम पिछली मिली विफलताओं से हम बेखबर नहीं हैं। न हम बेखबर हैं संघर्ष और कठिनाइयों से जो हमें आगे करना है। लोगों की उम्मीदों से हम अनजान नहीं है। हमें यह प्रण लेने इकट्ठा हुए हैं, हम देश की राजनीति में अपनी पार्टी को उसी भूमिका में लाएंगे जो सदैव निभाई है, जिस भूमिका की उम्मीद इस बिगड़ते समय में देश की जनता करती है। हम आत्मनिरीक्षण कर रहे हैं। यह तय करें कि यहां से निकलें तो एक नए आत्मविश्वास और कमिटमेंट से प्रेरित होकर ही निकलेंगे।”

    आज सोनिया गांधी ने यह भी कहा कि, ” BJP और RSS की नीतियों के कारण देश जिन चुनौतियों का सामना कर रहा है, उसपर विचार करने के लिए ये शिविर एक बहुत अच्छा अवसर है। ये देश के मुद्दों पर चिंतन और पार्टी के सामने समस्याओं पर आत्मचिंतन दोनों ही है।” साथ ही उनका यह भी कहना था कि, “ऐसा माहौल पैदा किया गया है कि लोग लगातार डर और असुरक्षा के भाव में रहें। अल्पसंख्यकों को शातिर तरीके से क्रूरता के साथ निशाना बनाया जा रहा है। अल्पसंख्यक हमारे समाज का अभिन्न अंग हैं और हमारे देश के समान नागरिक हैं।”

    गौरतलब है कि आज से राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस का ‘नवसंकल्प चिंतन शिविर’ आरम्भ हुआ है। जिसमे कांग्रेस के 150 से ज्यादा नेता बीते गुरुवार को उदयपुर पहुंच गए थे। इनमें शशि थरूर, केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, मल्लिकार्जुन खड़गे, सचिन पायलट सहित सहित कई नेता शामिल हैं। वहीं राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल, अविनाश पांडे सहित लगभग 75 नेता ट्रेन से दिल्ली से मेवाड़ एक्सप्रैस से उदयपुर पहुंचे हैं। वहीं सोनिया और प्रियंका गांधी अपने विशेष विमान से ही शुक्रवार सुबह उदयपुर पहुंचे हैं।

    इस  शिविर की तमाम बैठकें ताज अरावली में होंगी। शिविर में तीन अहम ग्रुप डिस्कशन, 6 स्पेशल कमेटियों की बैठक और CWC की अहम बैठक होगी। इसमें कांग्रेस के 400 से ज्यादा नेता शमिल होंगे। इनमें दो मुख्यमंत्री सहित CWC के तमाम सदस्य, AICC के सदस्य सहित तमाम बड़े नेता भी शामिल होंगे।