महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा सक्रिय मामले, पंजाब में पॉसिटिविटी रेट बढ़कर हुआ 6.8 प्रतिशत

    नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) की दूसरी लहर शुरू है। जिसके वजह से फिर से संक्रमितो की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। इसी को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Family and Family Welfare) ने पत्रकार वार्ता का  आयोजन संबोधित किया। इसमें जानकारी देते हुए स्वास्थ्य सचिव राजीव भूषण (Rajesh Bhushan) ने कहा, “महाराष्ट्र (Maharahtra) में कुल सक्रिय मामलों का 60 प्रतिशत हैं। वहीं पंजाब (Punjab) में पॉजिविटी रेट बढ़कर 6.8 प्रतिशत होगया है। 

    राजेश भूषण ने कहा, “नए कोरोना मामलों का निम्नतम बिंदु 9 फरवरी था। आज, नए कोरोना मामलों में लगभग 43% सप्ताह-दर-सप्ताह वृद्धि और नई मृत्यु में सप्ताह वृद्धि पर लगभग 37% सप्ताह है।” उन्होंने आगे कहा, “मृत्यु दर 2% से भी कम है जब कुछ राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों में वृद्धि देखी जा रही है।”

    उन्होंने कहा, “देश के कुछ राज्यों में कोरोना के मामले बढ़ने के बावजूद सक्रिय मामले 2 प्रतिशत हैं और मृत्यु दर 2 प्रतिशत से कम है। पूरे देश में क्युमुलेटिव पॉजिटिव रेट 5 प्रतिशत से कम हो गई है और पिछले एक सप्ताह में ये 3 प्रतिशत है।”

    महाराष्ट्र में हालात सबसे ख़राब 

    स्वास्थ्य विभाग ने कहा, “महाराष्ट्र में हालात बेहद चिंता जनक बानी हुई है, कुल सक्रिय मामलों में 60 प्रतिशत मामले राज्य में हैं। नई मृत्यु का 45 प्रतिशत केंद्रित है।” उन्होंने कहा, “1 मार्च को महाराष्ट्र का पॉजिटिव रेट लगभग 11 प्रतिशत हुआ करता था जो अब बढ़कर 16 % से ज़्यादा हो गया है। ये चिंता की बात है जिस तेजी से यहां मामले बढ़ रहे उतने टेस्ट नहीं हो रहे हैं तो यहां टेस्टिंग बढ़ाने की आवश्यकता है।”

    पंजाब की पॉजिटिविटी रेट 6.8 प्रतिशत 

    स्वास्थ्य सचिव ने आगे कहा, “पंजाब में 531 औसतन मामले प्रतिदिन आते थे जो बढ़कर 1,338 हो गए हैं। पंजाब की पॉजिटिविटी रेट 3.4% थी जो अब बढ़कर 6.8% हो गई है। यह चिंताजनक है। इससे पता चलता है कि कोरोना उचित व्यवहार का पालन नहीं किया जा रहा है।”  उन्होंने आगे कहा, “कर्नाटक की स्थिति सकारात्मकता दर 1.3% है। कर्नाटक सरकार को हमारी सलाह है कि परीक्षणों की पूर्ण संख्या बढ़ाई जाए।”

    राज्यों को साढ़े सात करोड़ वैक्सीन की डोज उपलब्ध कराई 

    स्वास्थ्य सचिव ने कहा, “भारत सरकार ने विभिन्न राज्यों को अब तक 7 करोड़ 54 लाख वैक्सीन की डोज उपलब्ध करा चुकी है। इसके बाद भी अगर कोई कहता है कि देश को प्राथमिकता नहीं दी जा रही है तो यह बिल्कुल आधारहीन है।” उन्होंने कहा, ” अब तक कुल 3.51 करोड़ लोगों को वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है इन 3.51 करोड़ लोगों में से 1 करोड़ 38 लाख डोज 60 साल से ऊपर के लोगों और 45-59 साल के लोगों को दिया गया है।”

    राजेश भूषण ने आगे कहा, “15 मार्च को विश्वभर में 8.34 मिलियन डोज एडमिनिस्टर हुई। इसमें भारत का हिस्सा 3.04 मिलियन था यानि 36% भारत का था।”