COVISHIELD

नयी दिल्ली.  अगर सूत्रों की माने तो हमारे देशवासियों को कोरोना (Corona) से लड़ाई के मोर्चे पर अच्छी खबर जल्द ही मिल सकती है। ख़बरों की मानी जाए तो भारत में आज ही ‘कोविशील्ड’ (Covishield) वैक्सीन को मंजूरी दी जा सकती है। वही इसके शुरुआत में इस वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिल सकती सकती है। 

गौरतलब है कि आज यानि बुधवार को कोरोना वैक्सीन से जुड़ी सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (SEC) की एक अहम् बैठक होनी है, जिसमें भारत में इस कोरोना वैक्सीन को मंजूरी देने पर जरुरी निर्णय होगा। वैसे भी देखा जाए तो ब्रिटेन (Britain) में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) की वैक्सीन को मंजूरी मिल गई है और कोविशील्ड (Covisheild) वैक्सीन इसी से जुड़ी हुई है। ऐसे में अब भारत में इस जरुरी वैक्सीन को मंजूरी मिलने की उम्मीद भी अब और बढ़ गई है। 

आज होने वाली बैठक इसलिए और महत्वपूर्ण है क्योंकि आज ही ब्रिटेन ने ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन को इस्तेमाल करने की मंजूरी दे दी है। इसके तहत अब कुछ ही दिनों में ब्रिटेन के लोगों को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन की खुराक मिलनी शुरू हो जाएगी।

गौरतलब है कि भारत में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन को सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित की जा रही है। वहीं सीरम इंस्टीट्यूट (SII)  के मुताबिक, शुरुआत में भारत में कोविशील्ड की 4-5 करोड़ खुराक का ही भंडारण किया गया है। जबकि 2021 के अंत तक इसकी करीब 30 करोड़ खुराक बनाने की तैयारी है।

हालाँकि  मोदी सरकार की ओर से वैक्सीन देने की तैयारियां पहले से ही शुरू हैं। हालाँकि इसकी शुरुआत में मुख्य रूप से 30 करोड़ लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने का पहला लक्ष्य है, जिसमें कोरोना वॉरियर्स को पहले प्राथमिकता होगी। इसके तहत क्रमशः स्वास्थ्यकर्मी, पुलिसकर्मी, कोरोना वॉरियर्स, 50 की उम्र से अधिक वाले लोग और फिर बीमार लोगों को तरजीह दी जाएगी। 

बता दें कि भारत में बीते कुछ दिनों से चार राज्यों में कोरोना वैक्सीनेशन का क्लिनिकल ट्रायल रन चल रहा है। वहीं पंजाब, असम जैसे राज्यों में वैक्सीनेशन का ‘ड्राइ रन’ किया गया था, जिसमें वैक्सीन का डोज देने की प्रक्रिया का ट्रायल किया गया है। ख़बरों के अनुसार जिस भी व्यक्ति को कोरोना वैक्सीन की डोज दी जाएगी, उसे पहले ही फोन पर इस बाबत सारी जानकारी मुहैया करा दी जाएगी।