Covid-19 probe results from smartphone will be found in less than 30 minutes
Representative Image

    नई दिल्ली: देश में कोरोना (Coronavirus Pandemic) की रफ्तार भले ही कम हो गई है लेकिन खतरा अभी टला नहीं है। कोविड को फैलने से रोकने के लिए केंद्र सहित राज्य सरकारों ने अपने स्तर पर कई अभियान चलाए थे। इन अभियानों में लोगों को जागरूक करने का काम किया गया था। इसी में से एक था कोरोना का कॉलर ट्यून (COVID Caller Tune)। हम जब भी किसी को फोन करते है तो उधर से प्री-कॉल ऑडियो सुनाई पड़ती है। जिसमें आप खुद को और दूसरों को कोरोना से कैसे बचे यह जानकारी दी जाती है। लेकिन लोग अब इससे तंग आ गए हैं। यही कारण है कि सरकार अब इसे बंद करने का मन बना चुकी है। माना जा रहा है कि सरकार इसे लेकर जल्द ऐलान भी कर सकती है। 

    ज्ञात हो कि आप जब भी किसी को इमरजेंसी में भी फोन लगाते हैं तो पूरा ऑडियो बजने के बाद ही रिंग जाती है। लगातार समय-समय पर लोगों की तरफ से कहा गया है कि वे इससे परेशान हो गए हैं। इसलिए सरकार अब इस दिक्कत को दूर करने जा रही है। रिपोर्ट की मानें तो जल्द ही प्री-कॉल ऑडियो को बंद किया जाएगा।

    गौर हो कि मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि दो वर्ष कोरोना का जागरुकता अभियान चलाने के बाद केंद्र सरकार कोविड के कॉलर ट्यून को अब बंद करने जा रही है। हालांकि इसे लेकर कोई औपचारिक बयान सामने नहीं आया है। सरकार का मानना है कि इस कॉलर ट्यून से एमरजेंसी में कॉल लगाने में देरी होती है। दरअसल फोन के रिंग होने से पहले कोरोना का कॉलर ट्यून लगाने का निर्देश स्वास्थ्य मंत्रालय के कहने पर डीओटी ने सभी टेलीकॉम ऑपरेटर्स को दिया था।