भारत में क्रिप्टोकरेंसी को बैन करने के लिए शीतकालीन सत्र में मोदी सरकार ला रही है बिल, इस घोषणा के बाद क्रिप्टो बाजार हुआ धड़ाम

    नई दिल्ली: केंद्र सरकार के भारत में क्रिप्टो करेंसी (Cryptocurrency in India) पर बैन लगाने से जुड़ी बिल की घोषणा के साथ ही क्रिप्टो बाजार धड़ाम हो गया। आलम यह है कि सभी क्रिप्टो लाल निशान में ट्रेड कर रही है। इससे पहले केंद्र की मोदी सरकार ने मंगलवार को बताया कि इस शीतकालीन सत्र में क्रिप्टो बिल लाया जाएगा। इस घोषणा के साथ ही भी प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी धड़ाम हो गयी। जिससे निवेशकों को नुकसान का सामना करना पड़ा है। 

    ज्ञात हो कि केंद्र सरकार क्रिप्टोकरेंसी को लेकर काफी सख्त रवैया अपना रही है। केंद्र की घोषणा के बाद से डिजिटल करेंसी में लगभग 18-25 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई है। साथ ही बिटकॉइन में 17 फीसदी से अधिक, एथेरियम में करीब 15 प्रतिशत और टीथर में लगभग 18 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। वैसे मौजूदा समय में देश में अभी क्रिप्टोकरेंसी के इस्तेमाल के संबंध में न तो कोई बैन है और न ही कोई नियमन की व्यवस्था लागू है। केंद्र का यह भी कहना है कि भारतीय रिजर्व बैंक अपनी खुद की डिजिटल करेंसी जारी करने वाला है।

    गौर हो कि मंगलवार को लोकसभा के बुलेटिन में कहा गया कि संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान निचले सदन में पेश किये जाने वाले विधेयकों की लिस्ट में क्रिप्टोकरेंसी एवं आधिकारिक डिजिटल मुद्रा विनियमन विधेयक 2021 को सूचीबद्ध किया गया है। इस विधेयक के माध्यम से कुछ अपवादों के साथ देश में सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी पर बैन लगाया जाएगा। कल जारी लोकसभा बुलेटिन में क्रिप्टोकरेंसी सहित तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने से संबंधित विधेयक पेश किये जाने के लिये सूचीबद्ध किया गया है।