Photo Credit tiwtter-ANI
Photo Credit tiwtter-ANI

    मुंबई: एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार ने विधानसभा में विश्वास मत के दौरान बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है। एकनाथ शिंदे को उनके पक्ष में 164 मत मिले। फ्लोर टेस्ट पर मिली जीत के बाद महाराष्ट्र उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस ने महाविकास अघाड़ी गठबंधन पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा, मैंने कहा था कि मैं वापस आऊंगा, लेकिन जब मैंने ऐसा कहा तो कई लोगों ने मेरा मजाक उड़ाया। मैं आज वापस आया हूं और एकनाथ शिंदे अपने साथ लाया हूं। मैं उन लोगों से बदला नहीं लूंगा जिन्होंने मेरा मजाक उड़ाया था।

    फडनवीस ने विधानसभा में वोटिंग के दौरान ED-ED के नारे लगाये जाने का भी जिक्र किया और नाराजगी जाहिर की। इस दौरान उन्होंने कहा, महाराष्ट्र में ईडी की मदद से सरकार बनी है। लोग ताना मारते हैं कि यह ईडी की सरकार है। हाँ, यह एकनाथ देवेंद्र की ईडी सरकार-सरकार है। मैं घर पर भी बैठ जाता अगर पार्टी मुझसे कहती- वही पार्टी जिसने मुझे सीएम बनाया। आज मैं आपको बताता हूं कि, इस सरकार में कभी सत्ता के लिए संघर्ष नहीं होगा, हम सहयोग करते रहेंगे।

    उन्होंने कहा, राजनीति में विरोधियों की आवाज सुनने के लिए सभी को तैयार रहना चाहिए। हमने देखा कि सोशल मीडिया पर बयान देने और पोस्ट करने के लिए लोगों को जेल में डाल दिया गया। हमें उचित तरीके सेआलोचना का जवाब देना चाहिए।

    फ्लोर टेस्ट में मिली जीत

    गौरतलब हो कि 288 सदस्यीय सदन में 164 विधायकों ने विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया, जबकि 99 विधायकों ने इसके खिलाफ मतदान किया।  विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर ने विश्वास मत को बहुमत मिलने की घोषणा की। हाल में शिवसेना के एक विधायक के निधन के बाद विधानसभा में विधायकों की मौजूदा संख्या घटकर 287 हो गई है, इसलिए बहुमत के लिए 144 मतों की आवश्यकता थी।

    शिंदे ने पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के एक दिन बाद 30 जून को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। भारतीय जनता पार्टी के नेता देवेंद्र फडणवीस ने राज्य के उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।  शक्ति परीक्षण से पहले ठाकरे के खेमे से शिवसेना के एक और विधायक संतोष बांगर शिंदे के धड़े में चले गए। बांगर हिंगोली जिले के कलमनुरी से विधायक हैं। इसके साथ ही शिंदे के धड़े में अब पार्टी के विधायकों की संख्या 40 हो गई है।