America expressed concern over Pegasus issue, said - spying against critics, journalists is worrying
प्रतिकारात्मक  तस्वीर 

    नई दिल्ली: इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय आए दिन लोगों को साइबर क्राइम को लेकर आगाह करती है। अब इसी कड़ी में मंत्रालय ने भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT-IN) ने एक नए प्रकार के साइबर हमले को लेकर चेतावनी दी है। यह हमला ऑनलाइन बैंकिंग को टारगेट कर रहा है। यानी जो लोग ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं वह सावधान हो जाएं। 

    इसी को लेकर सरकार की ओर से एक एडवाइजरी भी जारी की गई है। जिसमें बताया गया है कि साइबर हमला करने वाले भारत में प्रसिद्ध और लोकप्रिय बड़े बैंकों की इंटरनेट बैंकिंग वेबसाइटों की तरह दिखने वाली एक फिशिंग वेबसाइट बनाते हैं और फिर उसे ठगी के लिए यूज़ करते हैं। हमलावर इसके लिए ‘एनग्रोक’ प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं किन बैंक लिंकों से आपको बचकर रहना चाहिए…

    लिंक के आखिर में बैंक 

    एक बेहद आम दिखने वाला लिंक आपको अपना शिकार बना सकते हैं। “http:// 1a4fa3e03758. ngrok [.] io/xxxbank” कुछ इस तरह दिखने वाली लिंक, जिसमें जो xxx है वह बैंक के नाम हो सकते हैं। ध्यान रखें ऐसे फर्जी लिंक में बैंक का नाम कभी भी पहले नहीं होता है बल्कि आखिरी में होता। जबकि असल बैंकों के लिंक में बैंक का नाम सबसे पहले होता है।

    केवाईसी की बात 

    कभी कभार साइबर हमला करने वाले लोग आपको KYC का नाम लेकर भी ठगने का काम कर सकते हैं। यह लिंक कुछ ऐसा दिखेगा- http://1e2cded18ece.ngrok[.]io/xxxbank/full-kyc.php. ऐसे लिंक से भी आप बचकर रहें। 

    HTTP प्रोटोकॉल 

    ऐसे फेक लिंक HTTPS पर नहीं होते बल्कि यह HTTP प्रोटोकॉल पर आधारित होते हैं। उदाहरण के लिए- “http://1d68ab24386.ngrok[.]io/xxxbank/”. याद रखें HTTPS हमेशा ही HTTP से ज्यादा सुरक्षित होता है और सभी बैंकों के लिंक HTTPS पर ही आधारित होते हैं।

    फेक बैंकिंग लिंक 

    अगर आपको कुछ ऐसे SMS आते हैं, जिसमें बैंक से जुड़े छोटे लिंक होते हैं तो वह फेक लिंक होते हैं। जैसे ही आप इस पर क्लिक करेंगे, ये बड़े हो जाते हैं और कुछ ऐसे दिखेंगे- “https://0936734b982b.ngrok[.]io/xxxbank/”। यह भी एक तरह से ठगी करने वाले लिंक होते हैं।

    लिंक वही, बैंक का नाम दूसरा 

    कभी आप ऐसा भी देख सकते हैं कि लिंक आपको वही दिखेगा जो पहले आया होगा, लेकिन उसमें बस बैंक का नाम दूसरा होगा। अगर आपको कुछ ऐसा लिंक आता है तो सावधान हो जाएं या फर्जी लिंक हो सकता है।