Anil Deshmukh
File Pic

    मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के ठिकानों पर ईडी (ED) की शुक्रवार को हुई छापेमारी (Raid) के बाद देशमुख ने पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Parambir Singh) पर निशाना साधा। ANI के मुताबिक, देशमुख ने कहा कि, परमबीर सिंह ने मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से हटाए जाने के बाद मुझ पर झूठे आरोप लगाए क्योंकि उनकी भूमिका बहुत संदिग्ध थी। जब वह पद पर थे तो उन्होंने आरोप क्यों नहीं लगाए?”

    धनशोधन के मामले में देशमुख की मुंबई और नागपुर स्थित ठिकानों पर शुक्रवार को ईडी ने छापेमारी की। केंद्रीय एजेंसी ने सीबीआई की FIR का अध्ययन करने के बाद देशमुख और अन्य के खिलाफ पिछले महीने धनशोधन निरोधी कानूनी के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया था। 

    बता दें कि, ईडी की अनिल देशमुख पर कार्रवाई को लेकर महाराष्ट्र की राजनीति भी गरमा गई है। राज्य की महाविकास अघाड़ी सरकार पर विपक्ष लगातार हावी हो रहा है। ऐसे में बीजेपी ने शुक्रवार को कहा कि,  महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ चल रही जांच बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर हो रही है। इसके साथ ही पार्टी ने देशमुख के परिसरों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी का राजनीति से प्रेरित होने की बात से भी इनकार किया। 

    महाराष्ट्र में विपक्षी पार्टी ने राज्य में पूर्व सहयोगी रही और अब सत्तारूढ़ गठबंधन का नेतृत्व कर रही शिवसेना पर भी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) नेता के ठिकानों पर छापेमारी का भाजपा से संबंध बताने के लिए हमला किया। एक रिपोर्ट के अनुसार, बीजेपी नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले द्वारा ईडी की तलाशी आपातकाल के हालात जैसे करार दिए जाने वाले बयान पर कहा कि, उच्च न्यायालय द्वारा निर्देशित जांच को आपातकाल से जोड़ना गलत है।