Senior IPS officer Sanjay Pandey
Photo:@ANI/Twitter

     मुंबई/नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) को-लोकेशन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त संजय पांडे (Former Mumbai Police Commissioner Sanjay Pandey) को 5 जुलाई को तलब किया है। केंद्रीय एजेंसी के एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी। 

    ईडी अधिकारी ने कहा कि संजय पांडे को शनिवार को समन भेजा गया था। एनएसई को-लोकेशन से सर्वर कंप्रोमाइज मामले में सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी को समन जारी किया गया है। पूर्व पुलिस आयुक्त संजय पांडे को 5 जुलाई को दिल्ली तलब किया है। हालांकि, अभी तक संजय पांडेय इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया देने नहीं दी है, लेकिन ईडी अधिकारी ने कहा कि पूर्व पुलिस आयुक्त दिल्ली में ईडी के समक्ष पेश हो सकते हैं। 

    इससे पहले सीबीआई ने कि थी पूछताछ  

    गौरतलब है कि, इससे पहले मार्च में सीबीआई ने संजय पांडे से पूछताछ की थी। इस दौरान सीबीआई ने पूर्व आयुक्त पांडे से तकरीबन 6 घंटे तक सवाल जवाब किए थे। बताया गया कि, सीबीआई ने पूर्व पुलिस कमिश्नर सें यह पूछताछ अनिल देशमुख से जुड़े 100 करोड़ रुपये की वसूली मामले में की  थी। 

    4 महीनों का कार्यकाल काफी विवादों से भरा रहा 

    पूर्व कमिश्नर संजय पांडेय ने कानपुर के आईआईटी से कंप्यूटर साइंस से ग्रेजुएट किया है और वे साल 1986 बैच के आईपीएस ऑफिसर बने थे।  संजय पांडे पुलिस सेवा से 30 जून को रिटायर हुए। उनकी जगह विवेक फणसलर ने मुंबई पुलिस कमिश्नर का कार्यभार संभाला है। संजय पांडेय ने मार्च 2022 को मुंबई पुलिस कमिश्नर का कार्यभार संभाला था। उनका 4 महीनों के कार्यकाल काफी विवादों से भरा रहा। इस दौरान संजय पांडेय जब DG थे तब परमबीर सिंह को अनिल देशमुख के खिलाफ वापस लेने के लिए दबाव बनाया था।  मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त ने बीजेपी नेता के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश नहीं माना था और मेडिकल लीव पर चले गए थे।