Encounter
File Photo

    श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सोमवार देर रात सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में ‘द रेसिस्टेंस फ्रंट’ (टीआरएफ) के तीन आतंकवादी मारे गए। इनमें से एक आतंकवादी हाल में श्रीनगर में बिहार के एक फेरी वाले की हत्या में शामिल था। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी। पुलिस के अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में गुप्त सूचना मिलने के बाद सुरक्षा बलों ने दक्षिण कश्मीर के शोपियां में इमामसाहब इलाके के तुलरान में सोमवार रात को घेराबंदी कर तलाश अभियान चलाया।  

    उन्होंने बताया कि आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी की, जिसके बाद बलों ने जवाबी कार्रवाई की और तलाश अभियान मुठभेड़ में बदल गया। अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए। पुलिस ने बताया कि ये आतंकवादी लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) से संबद्ध टीआरएफ से संबंधित थे। कश्मीर जोन पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘‘शोपियां मुठभेड़ की जानकारी : लश्कर-ए-तैयबा (टीआरएफ) के तीन आतंकवादी मारे गए। (आतंकवादियों की) पहचान का पता लगाया जा रहा है। हथियार और गोला बारूद सहित आपत्तिजनक सामग्री बरामद की गई है। तलाश जारी है।”  

    इसके बाद, कश्मीर के आईजीपी (पुलिस महानिदेशक) विजय कुमार ने बताया कि तीन आतंकवादियों में से एक आतंकवादी बिहार के रहने वाले फेरीवाले वीरेंद्र पासवान की हत्या में शामिल था। कश्मीर जोन पुलिस ने आईजीपी के हवाले से ट्वीट किया, ‘‘शोपियां मुठभेड़ की जानकारी : तीन आतंकवादियों में से एक की पहचान गंदेरबल के मुख्तार शाह के रूप में हुई है, जो बिहार के एक फेरीवाले वीरेंद्र पासवान की हत्या के बाद शोपियां चला गया था।”  

    पासवान की पांच अक्टूबर को शहर के हवल इलाके में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। आतंकवादियों ने उस दिन बांदीपोरा जिले के नायदखाई इलाके में एक स्थानीय टैक्सी अड्डे के अध्यक्ष मोहम्मद शफी लोन की भी हत्या कर दी थी।