आज भी देशभक्ति याद दिला देते हैं ये नारे, देश के लालों ने बहाया खून तभी लहराया तिरंगा

    नई दिल्ली : हम सभी देश वासियों के लिए आज़ादी का यह पर्व बेहद खास होता है। इस 15 अगस्त को हम 75 वा स्वतंत्रता दिवस समाहरोह मनाने वाले है। 15 अगस्त हमारे लिए कई मायनों में बेहद खास है। हर साल इस दिन स्वतंत्रता दिवस पर जश्न मनाया जाता है। लेकिन आज जो हम जश्न मनाते है उसके पीछे कितना बड़ा इतिहास है ये हम सब जानते है। 

    15 अगस्त न केवल हमारे लिए जश्न का दिन है बल्कि देश के उन वीरों को याद करने का दिन है जिन्होंने आज़ादी के लिए अपना लहू बहाया है। आज़ादी के लिए हमारे देश के लाल ने दी हुई बलदानी हम कभी नहीं भूल सकते। देशभक्ति को लेकर उनके जो विचार है, वह उन्होंने नारे में बताये है, आज भी जब हम यह नारे पढ़ते या देखते है तो खून में उबाल आ जाता है। चलिए इन नारे के जरिये फिरसे भारत मां के उन सपूतों को याद करते है। जिन्होंने भारत मां को आज़ादी दिलाई है….

     

                    ”मेरे सिर पर लाठी का एक-एक प्रहार, अंग्रेजी शासन के ताबूत की कील साबित होगा” – लाला लाजपत राय

                                                            ” वंदे मातरम” – बंकिम चंद्र चटर्जी                            

                                        ”तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा”- नेताजी सुभाष चंद्र बोस                                           

                                                            ”अंग्रेजो भारत छोड़ों” – महात्मा गांधी 

     

                             ” स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूंगा”- बाल गंगाधर तिलक     

                                                                    ”इंकलाब जिंदाबाद”- भगत सिंह                         

                          “दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगे, आजाद ही रहे हैं, आजाद ही रहेंगे” – चंद्रशेखर आजाद 

                                                                   ”जय हिंद”- नेताजी सुभाष चंद्र बोस

     

                                                      ” सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्ता हमारा” – अल्लामा इकबाल 

                                                          ” सत्यमेव जयते”- पंडित मदनमोहन मालवीय                                                                                 

                                                ”सरफरोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है”- रामप्रसाद बिस्मिल                                                   

                                                         ” जय जवान, जय किसान” – लाल बहादुर शास्त्री 

    इन नारों को सुनकर आज भी आजादी का हर एक लम्हा महसूस होता है। जिसके लिए हमारे देश के कई लाल ने अपनी जान गवाई है। आपको बता दें कि इस साल स्वतंत्रता दिवस की थीम ”नेशन फर्स्ट, ऑलवेज फर्स्ट है। साथ ही टोक्यो ओलम्पिक 2020 में हमारे देश के जिन खिलाड़ियों ने प्रतिनिधित्व किया है उनके सम्मान के लिए खास प्रोग्राम का आयोजन किया जा रहा है।