farmers-protest

Loading

नई दिल्ली: किसानों के दिल्ली कूच के दौरान 23 साल के एक युवक की मौत की खबर भी सामने आई है। जिस पर सफाई देते हुए हरियाणा पुलिस ने कहा कि यह खबर अफवाह है। हरियाणा पुलिस ने कहा कि अब तक किसी की मौत की कोई जानकारी उन्हें नहीं है। पुलिस ने इसे अफवाह बताया है।

हरियाणा पुलिस ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘अभी तक की प्राप्त जानकारी के अनुसार आज किसान आंदोलन में किसी भी किसान की मृत्यु नहीं हुई है। यह मात्र एक अफवाह है। दाता सिंह खनोरी बॉर्डर पर दो पुलिसकर्मी और एक प्रदर्शनकारी के घायल होने की सूचना है जो उपचाराधीन है।’

शहीद हुआ बच्चा-किसान नेता डल्लेवाल

वहीं, किसान नेता जगजीत सिंह डल्लेवाल ने समाचार एजेंसी ए एन आई से बात करते हुए कहा कि हम आगे गए, सरकार ने हमें बातचीत का न्यौता दिया। सरकार हमारे खिलाफ प्रचार करती है। उन्होंने कहा कि किसान का दावा है एक 23 साल के बच्चे की मौत हो गई है। दिल्ली बाद में चले जाएंगे, पहली हमारी जिम्मेदारी उस बच्चे के प्रति है, जो शहीद हो गया है।

सरकार खुले मन से चर्चा के लिए तैयार

केंद्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने किसानों से पांचवें दौर की बातचीत की पेशकश करते हुए उनसे शांतिपूर्ण समाधान निकालने की अपील की है। भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने यहां भाजपा मुख्यालय में पत्रकारों से कहा, ‘‘कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने बातचीत की पेशकश की है। चर्चा और संवाद से ही समाधान निकलेगा।” उन्होंने कहा कि सरकार खुले मन से चर्चा के लिए तैयार है। 

किसानों के हित में नहीं प्रस्ताव 

किसान नेताओं के साथ चौथे दौर की बातचीत में तीन केंद्रीय मंत्रियों की समिति ने रविवार को प्रस्ताव दिया था कि किसानों के साथ समझौता करने के बाद सरकारी एजेंसियां पांच साल तक दालें, मक्का और कपास एमएसपी पर खरीदेंगी। लेकिन, किसान नेताओं ने इस प्रस्ताव को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि यह किसानों के हित में नहीं है। 

 

‘दिल्ली चलो’ मार्च

संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा ‘दिल्ली चलो’ मार्च का नेतृत्व कर रहे हैं। प्रदर्शनरत किसानों और हरियाणा पुलिसकर्मियों के बीच 13 फरवरी को अंबाला के समीप पंजाब-हरियाणा सीमा पर झड़प हुई थी।