किसान आंदोलन | किसानों को मोदी सरकार की चिट्ठी, कहा- बातचीत के सभी दरवाजे खुले | Navabharat (नवभारत)
ट्रेंडिंग टॉपिक्स
ब्रेकिंग न्यूज़
लाईव ब्लॉग
अंतिम अपडेटDecember, 24 2020

किसानों को मोदी सरकार की चिट्ठी, कहा- बातचीत के सभी दरवाजे खुले

ऑटो अपडेट
द्वारा- Rahul Goswami
कंटेन्ट राइटर
14:35 PMDec 24, 2020

सरकार ने किसानों को लिखी चिट्ठी

इधर किसानों के आंदोलन के बीच मोदी सरकार की ओर से किसानों को एक और चिट्ठी आज लिखी गई है. कृषि मंत्रालय द्वारा लिखी गई चिट्ठी में कहा है कि सरकार किसानों की हर मांग पर चर्चा करने के लिए तैयार है. सरकार ने यह साफ तौर पर कहा भी है कि अभी भी बातचीत के रास्ते खुले हुए हैं. 

 

13:35 PMDec 24, 2020

किसान संगठनों द्वारा की गयी डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस

आज किसान आंदोलन पर किसान संगठनों द्वारा एक डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई. जिसमे कहा गया कि..

  1.     वैसे तो दो साल पहले सरकार की मंशा पर शक हुआ था, लेकिन कोरोना काल में ही ये नया कानून लाया गया. देशभर में आंदोलन   है, लेकिन अकेला पंजाब ही अगुवाई कर रहा है.
  2.    जैसे मोदी सरकार ने सभी सरकारी संपत्ति को अब प्राइवेट हाथों में दे दिया है, वैसे ही अब कृषि के साथ भी यही किया जा         रहा   है. हम किसी संशोधन नहीं बल्कि कानून वापसी की मांग कर रहे हैं.
  3.    किसी को भी आंदोलन के दौरान हिंसा करने की इजाजत नहीं दी जाएगी, 500 ग्रुप बने हुए हैं. हर किसी की रोज बैठक होती है. बात सिर्फ MSP का विवाद की नहीं है, कानूनों की भी बात है. कानून लागू होने    से खेती का पूरा सिस्टम बदल जाएगा और किसानों को सिर्फ नुकसान होगा. 
  4.    अब हम अलग-अलग भाषाओं में अपने पैम्फ्लेट निकाल रहे हैं, लोगों को अपने आंदोलन के बारे में बता रहे हैं. अब हमारी डिजिटल टीम भी सोशल मीडिया पर भी लोगों का समर्थन जुटा रही है.

 

12:49 PMDec 24, 2020

प्रियंका गांधी समेत अन्य कांग्रेस नेता रिहा

ख़बरों के अनुसार हिरासत में लिए गए प्रियंका गांधी समेत अन्य कांग्रेस नेताओं को अब रिहा कर दिया गया है.

12:28 PMDec 24, 2020

क्या कहा राहुल गाँधी ने

12:26 PMDec 24, 2020

राहुल ने PM मोदी को घेरा

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज कृषि कानून के मसले पर राष्ट्रपति से मुलाकात की, इसके बाद उन्होंने केंद्र सरकार पर हमला बोला. राहुल गांधी बोले कि, "राष्ट्रपति से हमने कहा है कि इन कानूनों से किसानों को नुकसान होने वाला है, देश को दिख रहा है कि किसान कानून के खिलाफ खड़ा है. मैं प्रधानमंत्री से कहना चाहता हूं कि किसान हटेगा नहीं, जबतक कानून वापस नहीं होगा तबतक कोई वापस नहीं जाएगा." राहुल गांधी ने कहा कि, "सरकार संसद का संयुक्त सत्र बुलाए और इन कानूनों को तुरंत वापस लें.  आज किसान दुख और दर्द में हैं, कुछ किसानों की मौत भी हुई है."

 

 

 

12:13 PMDec 24, 2020

प्रियंका ने मोदी सरकार को घेरा, कहा- महापापी

12:01 PMDec 24, 2020

महिला कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा

12:00 PMDec 24, 2020

प्रियंका गाँधी हिरासत में

इधर कांग्रेस नेता राहुल गांधी तीन नेताओं के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने पहुंचे हैं। कांग्रेस के मार्च को निकालने की इजाजत नहीं दी गई, जिसके बाद प्रियंका गांधी वाड्रा समेत अन्य कई नेताओं को हिरासत में ले लिया गया है।

 

नयी दिल्ली. मोदी सरकार (Narendra Modi Goverment) द्वारा लाये गए विवादस्पद कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों (Farmers Protest) को दिल्ली की सड़कों पर डटे एक महिना होने को आ रहा है। जहाँ मोदी सरकार के ताजा संशोधनों का प्रस्ताव को भी अब किसानों ने ठुकरा दिया है, वहीं किसानों का यह भी कहना है कि सरकार बिना किसी शर्त के साथ बातचीत की टेबल पर उनके सामने आए। गौरतलब है कि किसानों की ओर से अब भी कानून वापसी की मांग की जा रही है। वहीं दूसरी ओर आज किसानों के मुद्दे को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की अगुवाई में विपक्ष एक मार्च भी निकालने जा रहा है।

क्या कहना था किसानों का:

विदित हो कि  प्रदर्शनकारी किसान संघों ने गेंद मोदी सरकार के पाले में होने की जिक्र करते हुए बुधवार को कहा था कि वह बातचीत फिर से शुरू करने के लिये नया ठोस प्रस्ताव लेकर आए, वहीं कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने कहा कि समाधान तक पहुंचने का अब संवाद ही एक मात्र रास्ता है और केंद्र सरकार कृषि क्षेत्र में सुधार के लिये प्रतिबद्ध है। इधर तीन नए कृषि कानूनों को निरस्त किये जाने की मांग को लेकर सरकार और प्रदर्शनकारियों के बीच गतिरोध खत्म होने की कोई संभावना नजर नहीं आने के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आने वाले शुक्रवार को छह राज्यों के किसानों के साथ बातचीत करेंगे और इस दौरान किसान केंद्र द्वारा की गई विभिन्न पहलों को लेकर अपने अनुभव भी साझा करेंगे।

किसान करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस, राहुल करेंगे ‘मार्च’:

अगर आज का कार्यक्रम देखें तो आज किसानों के द्वारा एक बार फिर प्रेस कॉन्फ्रेंस की जाएगी। चुने हुए किसान नेता दोपहर 12 बजे आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे, जिसमें वे आंदोलन का मूल कारण बताएंगे। इसके साथ ही किसान मोर्चा की ओर से वे अपने डिजिटल प्लेटफॉर्म पर यह वेबिनार का आयोजन करेंगे, ताकि अगर लोगों के कुछ सवाल हो तो वो जवाब भी दे सकें।

उधर आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक बार फिर कृषि कानूनों केमुद्दे को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे, उनके साथ ही विपक्ष के कई अन्य कई नेता भी होंगे। इस्सके साथ आज ही यानी गुरुवार को राहुल की अगुवाई में एक मार्च होगा, जिसमें विपक्ष के भी सांसद होंगे। जिसके बाद करीब दो करोड़ किसानों के हस्ताक्षर वाला एक खुला पत्र राष्ट्रपति को सौंप कृषि कानून वापसी की अपील की जाएगी। ये मुलाकात सुबह करीब 11।30 पर होनी है। 

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement

मीडिया संस्थानों पर इनकम टैक्स की रेड, क्या प्रेस की आजादी को छीनने की कोशिश?

View Results

Loading ... Loading ...
Advertisement
OK

We use cookies on our website to provide you with the best possible user experience. By continuing to use our website or services, you agree to their use.   More Information.