farmers-protest

Loading

नई दिल्ली: जहां एक तरफ पंजाब-हरियाणा सीमा (Punjab Haryana Border) पर दो प्रदर्शन स्थलों में से एक खनौरी सीमा पर झड़प में एक प्रदर्शनकारी की मौत और लगभग 12 पुलिसकर्मियों के घायल होने के बाद किसान नेताओं ने बीते बुधवार को ‘दिल्ली चलो’ मार्च (Farmers Protest) आगामी दो दिन के लिए स्थगित कर दिया। वहीं किसान नेता सरवन सिंह पंधेर ने भी कहा कि, वे शुक्रवार शाम को आगे की रणनीति तय करेंगे। 

देखा जाए तो किसान पिछले 10 दिनों से पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं।  फिलहालउन्होंने दिल्ली कूच का प्लान दो दिन के टाल दिया है।  लेकिन इस दौरान किसान शंभू बॉर्डर पर जमे रहेंगे।  फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की कानूनी गारंटी और कृषि ऋण माफी सहित अपनी मांगों को लेकर हजारों किसान शंभू बॉर्डर पर डेरा डाले रहेंगे। 

अब आज क्या करेंगे किसान 

इस बाबत किसान नेता सरवन सिंह पंधेर ने कहा कि, दिल्ली जाने के फैसले पर फिलहाल दो दिन स्टे होगा। इस दौरान क्या फैसला लेना है इस पर विचार करेंगे।  अगले दो दिनों तक किसान जमीनी हालात का जायजा लेंगे और आगे की रणनीति पर विचार करेंगे। आपस में चर्चा के बाद किसान आगामी शुक्रवार शाम को अपने अगले कदम का ऐलान करेंगे। 

आज होंगे हरियाणा के सभी हाईवे जाम

वहीँ भारतीय किसान यूनियन (BKU) से जुड़े गुरनाम सिंह चढूनी के समर्थकों ने आज हरियाणा के सभी हाईवे जाम करने का फैसला किया है।  BKU ने दरअसल  ये फैसला पंजाब के किसानों के समर्थन में लिया है।  आज गुरनाम सिंह चढूनी के समर्थक दोपहर 12 बजे से हरियाणा के हर जिले में दो घंटे के लिए सड़कों को जाम करेंगे।  फिर दोपहर 2 बजे के बाद गुरनाम सिंह चढूनी के नेतृत्व वाली भारतीय किसान यूनियन की कोर कमेटी की बैठक होगी।  इस बैठक में किसान नेता आगे की रणनीति पर चर्चा करेंगे।  इधर राकेश टिकैत ने कहा कि, चंडीगढ़ में आज  संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) की बैठक है। जानकारी के लिए बता दें कि SKM फिलहाल इस आंदोलन में शामिल नहीं है।