farmers-protest

Loading

नई दिल्ली: जहां एक तरफ आज यानी गुरूवार 22 फरवरी को पंजाब-हरियाणा (Punjab-Haryana)  के शंभू और खनौरी बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन (Farmers Protest) का 10वां दिन है। वहीं किसानों ने दिल्ली कूच करने का प्लान फिलहाल 2 दिन के लिए टाल दिया है। किसानों ने खनौरी बॉर्डर पर युवा किसान शुभकरण सिंह की मौत और तनावपूर्ण हालात के बाद ये फैसला लिया है।

इन सबके बीच केंद्र सरकार ने बीते बुधवार को 2024-25 सत्र के लिए गन्ने का FRP 25 रुपये बढ़ाकर 340 रुपये प्रति क्विंटल करने की मंजूरी दी। गन्ने की FRP बढ़ाने का यह महत्वपूर्ण फैसला प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) की बैठक में लिया गया। गन्ने का यह नया सत्र अक्टूबर से शुरू होता है। उचित और लाभकारी मूल्य (FRP) वह न्यूनतम मूल्य है जो मिलों को गन्ना उत्पादकों को चुकानी पड़ती है।

वहीँ आज PM मोदी ने इस फैसले पर खुशी जताई है।  उन्होंने कहा कि, देशभर के अपने किसान भाई-बहनों के कल्याण से जुड़े हर संकल्प को पूरा करने के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध है। इसी कड़ी में गन्ना खरीद की कीमत में ऐतिहासिक बढ़ोतरी को मंजूरी दी गई है। इस कदम से हमारे करोड़ों गन्ना उत्पादक किसानों को लाभ होगा।  

किसान आंदोलन की बात करें तो केंद्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने आज कहा कि, “किसानों के साथ कई दौर की चर्चाओं में सार्थक बातें हुई हैं। लेकिन कुछ मुद्दों पर सहमति के लिए दोनों पक्षों को और मेहनत करनी होगी।  भारत सरकार किसानों के हित में काम करने के लिए प्रतिबद्ध है और वह ऐसा कर भी रही है। हमें मिलकर ऐसा समाधान निकालना चाहिए जिससे सभी को फायदा हो।  मुझे उम्मीद है कि हम मिलकर कोई समाधान निकाल लेंगे।”