kinaaur

  • हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में भूस्खलन की चपेट में आए 40 से अधिक लोग

किन्नौर: अभी आ रही एक बड़ी खबर के अनुसार किन्नौर (Kinnaur) में एक भयंकर लैंडस्लाइड (Landslide) हुआ है जिसके चलते एक ट्रक और यात्रियों से भरी बस के साथ कुछ यात्री वाहन मलबे के चपेट में आ गए हैं। 

इस घटना पर ITBP ने जानकारी देते हुए कहा कि, हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के रिकांगपियो-शिमला राजमार्ग पर आज भूस्खलन हुआ जिसमे एक ट्रक और एक एचआरटीसी बस के मलबे में दब जाने की खबर है। कई लोगों के फंसे होने की सूचना है। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) की टीमें बचाव के लिए रवाना हो चुकी है। 

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में बुधवार को भूस्खलन होने से 40 से अधिक लोग उसकी चपेट में आ गए। उपायुक्त आबिद हुसैन सादिक ने यह जानकारी दी। सादिक ने बताया कि हिमाचल प्रदेश सड़क परिवहन की बस समेत अनेक वाहन भूस्खलन के मलबे में दब गए। बस में 40 से अधिक यात्री सवार थे। बस किन्नौर के रेकॉन्ग प्यो से शिमला जा रही थी। किन्नौर के उपायुक्त ने बताया कि सेना, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल और स्थानीय बचाव दलों को बचाव कार्य के लिए बुलाया गया। सादिक ने बताया कि पत्थर अब भी गिर रहे हैं जिससे बचाव अभियान में कठिनाई आ रही है। उन्होंने बताया कि अभी विस्तृत जानकारी का इंतजार है। 

दरअसल हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में आज यानी बुधवार को बड़ा हादसा हुआ है। यहां पर यात्रियों से भरी हुई बस मलबे में दब गई है। बस के अलावा दो कार भी इस मलबे में दब गई हैं। ये हादसा किन्नौर जिले के चौरा में मौजूद नेशनल हाइवे पर हुआ है, जहां पहाड़ से बहुत सी चट्टानें गिर गई हैं।  और दर्जनों लोगों के दबे होने की आशंका है। जो बस मलबे में है, उसके ड्राइवर और कंडेक्टर को भी इसमें चोट आई है। 

घटना स्थल से जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, वह काफी खतरनाक दिख रही हैं हैं। सूत्रों की मानें तो पहाड़ से कुछ मलबा गिरा था, जिसके बाद वहां से गुजर रहे वाहन उसकी चपेट में पूरी तरह से आ गए। खबर के अनुसार एक यात्री बस और अन्य कुछ वाहन मलबे के बीचे आ गए हैं। 

गौरतलब है कि बीते कुछ वक्त में हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कई इलाकों में लैंडस्लाइड की बड़ी घटनाएं हुई हैं। जहां पर पहाड़ों से गिरती मिट्टी, पत्थरों के कारण कई बड़े हादसे हुए हैं। पता हो कि पहाड़ी इलाकों में हो रही लगातार बारिश के चलते इस प्रकार के लैंडस्लाइड की घटनाएं हो रही हैं। फिलहाल यहाँ की नदियां भी अपने पुरे वेग और उफान पर हैं।