ना मास्क, ना सोशल डिस्टेंसिंग, सावन के दूसरे सोमवार पर काशी विश्वनाथ में उड़ी कोरोना नियमों की धज्जियां

    वाराणसी. देश भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर के बीच सावन का दूसरा सोमवार (Second Monday of Sawan) मनाया जा रहा है।  सावन के दूसरे सोमवार पर महादेव की नगरी में आस्था का समंदर देखने को मिला। शिव मंदिरों में  देश भर से भक्त दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं। बिच, कई जगहों से कोरोना नियमों के उल्लंघन की तस्वीरें भी सामने आ रही हैं।  उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित विश्व प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath) मंदिर में बम-बम भोले के नारों के साथ भक्तों की भारी भीड़ दर्शन और पूजा के लिए पहुंची हैं। दर्शन के लिए लाइन   व्यवस्था की गई है, लेकिन कई लोगों ने न तो मास्क पहन रखा है और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है।  

    एजेंसी के अनुसार, सावन के दूसरे सोमवार के दिन बड़ी संख्या में लोग वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा करने के लिए पहुंचे। श्रद्धालुओं ने इस दौरान गंगा नदी में आस्था की डुबकी भी लगाई। तस्वीरों में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि घाटों पर भारी भीड़ मौजूद लेकिन, कई लोगों ने मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग सहित कई कोरोना संबंधी मानदंडों का उल्लंघन कि जारहा है। 

    गौरतलब हो कि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर तमाम विशेषज्ञ लॉकडाउन में ढील के बाद जुटने वाली भीड़ को लेकर चिंता जाहिर कर चुके हैं। प्रधानमंत्री ने हिल्स स्टेशनों और बाजारों में बढ़ती भीड़ को लेकर हाल ही में कहा था कि “पहाड़ी इलाकों में, मार्केट में बिना मास्क पहने, बिना प्रोटोकॉल पर अमल किए बिना भारी भीड़ का उमड़ना चिंता का विषय है। यह ठीक नहीं है। वायरस अपने आप नहीं आता।  कोई जाकर ले आए तो आता है। “