India china talk
File Photo

    नई दिल्ली. भारत (India) और चीन (China) के बीच 12वें दौर की कोर कमांडर स्तर की वार्ता शाम 7:30 बजे समाप्त हुई। दोनों देशों के बीच वार्ता वास्तविक नियंत्रण रेखा के चीन के हिस्से वाले मोल्डो में संपन्न हुई। नौ घंटे तक चली बैठक में दोनों पक्षों ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर में चल रहे सैन्य गतिरोध को हल करने के मुद्दों पर चर्चा की। जिसकी जानकारी सेना के सूत्रों ने दी।

    भारतीय सेना के सूत्रों ने बताया कि शनिवार सुबह 10:30 बजे शुरू हुई बातचीत करीब शाम 7:30 बजे तक चली। इस दौरान भारत और चीन के बीच हॉट स्प्रिंग और गोगरा हाइट्स एरिया से बुलाने पर विमर्श हुआ। साथ ही दोनों पक्षों ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर में चल रहे सैन्य गतिरोध को हल करने के मुद्दों पर भी बातचीत की।

    इससे पहले अप्रेल में भारत और चीन ने 11वें दौर की सैन्य वार्ता में पूर्वी लद्दाख में जमीनी स्तर पर संयुक्त रूप से स्थिरता बनाए रखने और किसी भी नई घटना को टालने पर सहमति व्यक्त की थी। साथ ही बताया गया था कि, दोनों पक्षों ने मौजूदा समझौतों और व्यवस्थाओं के अनुसार लंबित मुद्दों को निपटाने की आवश्यकता पर सहमति जताई थी। इसके अलावा लद्दाख में LAC पर सैनिकों के पीछे हटने से संबंधित मुद्दों के समाधान को लेकर विचारों का आदान-प्रदान भी हुआ था।

    वहीं दुशांबे में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के एक सम्मेलन के दौरान भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने अपने चीनी समकक्ष वांग यी से मुलाकात की थी। इस बैठक के बाद यह बात सामने आई थी कि, जयशंकर ने LAC पर यथास्थिति में कोई भी एकतरफा बदलाव भारत को “स्वीकार्य नहीं” होगा। उन्होंने तब सैनिकों की पूरी तरह वापसी और पूर्वी लद्दाख में शेष मुद्दों को जल्द से जल्द हल करने की आवश्कयता पर भी जोर दिया था।