Indian railway
File Pic

    नयी दिल्‍ली.  सुबह की बड़ी खबर के अनुसार अब कोरोना का प्रभाव कम होते ही रेलवे बोर्ड (railway board) ने ट्रेनों (Trains) को कोरोना के पूर्व की स्थिति में बहाल (restore) करने का बड़ा फैसला लिया है।  जी हाँ, अगर रेलवे बोर्ड (railway board) के अधिकारियों की मानें तो दो-चार दिन सभी जरुरी ट्रेनें सामान्‍य नंबरों से ही चलने लगेंगी, यानी इन नंबरों से जीरो हट जाएगा।  इसके अलावा कुछ ट्रेनों में जहाँ स्‍पेशल श्रेणी होने के बाद किराया बढ़ गया था, वो भी पहले की तरह वापस हो जाएगा।  

    इसके साथ ही अब रेलवे बोर्ड ने यह साफ़ किया है कि ट्रेनों में जरुरी कोविड प्रोटोकाल का पालन किया जाएगा।  यानी बगैर आरक्षण के सफर करने की इजाजत अब किसी को नहीं होगी नहीं होगी।  वहीं अब भी सफर के दौरान किसी भी प्रकार के कंबल, चादर या तकिया नहीं दिए जाएंगे। 

    पूर्व  स्थिति में बहाल होगी रेलवे

    इस बाबत रेलवे बोर्ड ने बीते शुक्रवार देर रात रात इस संबंध में एक जरुरी आदेश जारी किया गया है।  बता दें कि मौजूदा समय में शताब्‍दी, राजधानी, दूरंतो, मेल और एक्‍सप्रेस सभी मिलाकर 1744 ट्रेनों का संचालन हो रहा है।  फिलहाल ये सभी ट्रेनें स्‍पेशन ट्रेनों के रूप में चल रही हैं।  यानी नंबर के पहले जीरो लगा हुआ है।  लेकिन जल्‍द ही ये ट्रेनें अब सामान्‍य नंबरों से चलने लगेंगी। 

    railway

    इसके अलावा जिन कुछ ट्रेनों के स्‍पेशल बनने के बाद किराया बढ़ा था, रेलवे मंत्रालय के अनुसार अब यह किराया भी कोरोना से पूर्व जितना ही हो जाएगा।  यानी अब सभी ट्रेनें कोरोना से पहले की वाकी स्थितियों में बहाल हो जाएंगी।  रेलवे बोर्ड के अनुसार फिलहाल साफ्टवेयर अपडेट करने में 2 से 4 दिन का समय लग सकता है।  इसके बाद कोरोना से पहले की स्थितियों में सभी ट्रेनें बहाल हो जाएंगी। 

     रेलवे बोर्ड द्वारा जारी किया आदेश

    वहीं रेलवे बोर्ड द्वारा जारी इस आदेश में यह भी साफ़ किया गया है कि जरुरी कोविड प्रोटोकाल का पूरी तरह से पालन होगा।  यानी अब भी सेकेंड क्‍लास में बगैर आरक्षण के चलने की अनुमति नहीं होगी।  इसके अलावा ट्रेनों में सफर के दौरान दिए जाने वाले कंबल,चादर, तकिया अभी भी नहीं दिया जाएगा, जैसा कि कोरोना काल में हो रहा था।  हालांकि अब भी रेलवे बोर्ड द्वारा कई श्रेणियों को दिए जाने वाले कंसेशन के संबंध में फिलहाल इस आदेश में कुछ भी स्‍पष्‍ट नहीं किया गया है।