dabour

    नयी दिल्ली. जहाँ एक तरफ पूरे देश में बीते रविवार को करवाचौथ (Karwachauth) का बड़ा त्योहार बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया गया था। बता दें कि इस ख़ास मौके पर विवाहित महिलाएं अपने पति के लंबे और स्वस्थ जीवन की प्रार्थना करते हुए पूरे दिन उपवास रखती हैं। इस करवाचौथ के पर्व पर ही डाबर कंपनी (Dabour India) ने एक वीडियो जारी किया, जिसमें एक लेस्बियन कपल को करवाचौथ अमानाते दिखाया गया है। लेकिन अब इसी वीडियो पर कई लोग बुरी तरह से भड़क गए हैं।

    दरअसल बीते 22 अक्टूबर को लॉन्च किए गए इस ख़ास कमर्शियल में दो महिलाएं अपने पहले करवाचौथ की तैयारी करती दिख रही हैं। इसके लिए वे एक दूसरे के चेहरे पर ब्लीच लगाती है। इस वीडियो में वे त्योहार के महत्व पर भी एक चर्चा करती दिखाई दी हैं और बात करती हैं कि वे एक-दूसरे के लिए उपवास क्यों कर रहे हैं। 

    यहां देखें ये वीडियो:

    लेकिन इस क्लिप के अंत में यह पता चलता है कि दरअसल इन दोनों महिलाओं ने एक-दूसरे के लिए ही उपवास रखा है। क्योंकि वे चंद्रमा को देखती हैं और फिर एक-दूसरे को चलनी के जरिए देखकर अपना करवाचौथ के उपवास को तोड़ती हैं।

    वहीं क्लिप का अंत डाबर के स्वामित्व वाले सौंदर्य ब्रांड फेम के लोगों के साथ होता है, जिसे इंद्रधनुषी रंगों में ‘ग्लो विद प्राइड’ हैशटैग के साथ दर्शाया गया है। बता दें कि यही इंद्रधनुष का झंडा LGBTQIA+ एक सामाजिक आंदोलन का बड़ा प्रतीक है।

    इधर ऑनलाइन शेयर किए जाने के बाद से अब इस वीडियो को थोड़ी मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली है। जहां कुछ ने ब्रांड की पहल का भरपूर समर्थन किया है, वहीं अन्य इसकी कड़ी आलोचना कर रहे हैं। कुछ ने तो इसे हिन्दू संस्कारों के साथ एक बड़ा खिलवाड़ बताते हुए इसका पुरजोर विरोध किया है।

    वहीं, LGBTQ का समर्थन करने वालों ने भी इसे पैट्रिआर्की को LGBTQ से जोड़ने के लिए बेहद कड़ी आलोचना की। इस विवाद के चलते अब डाबर ने बाकायदा एक ट्वीट करके इस वीडियो को लेकर अपना खेद जताया है और सोशल मीडिया के हर हैंडल से हटाते हुए माफ़ी मांगी है।