KERALA

    कोट्टयम/इडुक्की. केरल (Kerala) में भारी बारिश (Rain) और विनाशकारी भूस्खलन (Landslide) में मरने वालों की संख्या बढ़कर रविवार को आठ हो गयी। सेना, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), पुलिस और अग्निशमन बल के साथ ही स्थानीय लोगों ने रविवार सुबह कूट्टीकल और कोक्कायार पंचायत इलाकों में बचाव अभियान शुरू किया जहां शनिवार से भारी बारिश के साथ कई भूस्खलनों के कारण 12 से अधिक लोग लापता हैं। अधिकारियों ने बताया कि बचाव कार्यकर्ताओं ने रविवार सुबह कूट्टीकल से चार और शव बरामद किए जिससे मृतकों की संख्या बढ़कर आठ हो गयी है। अभी तक शवों की पहचान नहीं की गई है।

    कूट्टीकल से शनिवार को दो महिलाओं और एक बच्चे का शव बरामद किया गया था। शनिवार को बारिश से संबंधित एक अन्य घटना में 30 साल के एक पुरुष और एक महिला की उस समय मौत हो गयी जब इडुक्की जिले के कंजार में उनकी कार बाढ़ में बह गयी। बचाव प्रयासों के साथ समन्वय करने के लिए कोट्टयम में मौजूद राज्य के राजस्व मंत्री के. राजन ने बताया कि सरकारी एजेंसियां यह भी जांच कर रही हैं कि क्या मलबे में और लोग फंसे हुए हैं। एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि कोट्टयम पहुंचे सेना के एक दल ने मलबे में लापता लोगों की तलाश के लिए अभियान शुरू कर दिया है।

    उन्होंने बताया, ‘‘स्थानीय सूत्रों के अनुसार कुछ लोग अब भी फंसे हुए हैं। अभी भारी बारिश का कोई अनुमान नहीं है। पैंगोड सैन्य स्टेशन की मद्रास रेजीमेंट ने कूट्टीकल से चार किलोमीटर दूर कवाली गांव में बचाव अभियान शुरू किया।” कोच्चि में नौसेना का एक हेलीकॉप्टर राहत सामग्री के साथ पहले ही बारिश से प्रभावित इलाकों के लिए उड़ान भर चुका है। वायु सेना के दो एमआई-17 हेलीकॉप्टर पहुंच चुके हैं और एक हेलीकॉप्टर को तिरुवनंतपुरम में तैयार रखा गया है। केरल के राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकारियों ने बताया कि उत्तर केरल-कर्नाटक के तटों पर पूर्वी मध्य अरब सागर से सटे दक्षिणपूर्व में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है और उन्होंने अगले 24 घंटों में कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने तथा कुछेक जगहों पर भारी बारिश का अनुमान जताया है।

    मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने फेसबुक पर एक पोस्ट में कहा कि आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राहत शिविर खोल दिए गए हैं। उन्होंने संबंधित प्राधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि शिविरों में कोविड-19 संबंधी स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन किया जाए। इस बीच, इडुक्की जिले के कोक्कायार में सात लापता लोगों की तलाश चल रही है।

    राजन ने बताया, ‘‘इलाके तक जाने वाली सड़कें तबाह हो गयी हैं। बड़ी मुश्किलों से पंचायत अध्यक्ष और ग्राम अधिकारी रात में अपने आप वहां पहुंचे। कल रात ही सड़क संपर्क बहाल किया गया। तलाश चल रही है लेकिन अभी तक कोई मिला नहीं है।” राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के दलों ने सुबह पथानमथित्ता जिले में जलभराव वाले इलाकों में फंसे करीब 80 लोगों को बचाया। मौसम अधिकारियों ने बताया कि इडुक्की जिले के पीरमेड में शनिवार शाम साढ़े पांच बजे तक 24 सेंटीमीटर तक बारिश हुई।