जानें क्या है मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम दिवस का इतिहास, भारत की स्वतंत्रता के बाद 13 महीने आजादी के लिए क्यों लड़े मराठा

    हर साल 17 सितंबर को मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत को भले ही 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता प्राप्त हुई हो। लेकिन उस समय भारत में जूनागढ़, हैदराबाद और कश्मीर यह भारत में समाहित होने के लिए तैयार नहीं थे। इस बीच, हैदराबाद राज्य में मराठवाड़ा भी शामिल है और भारत की आजादी के बाद 13 महीनों तक स्वतंत्रता के लिए संघर्ष किया और इस संघर्ष के बाद मराठवाड़ा को आजादी कर दिया गया।

    17 सितंबर 1948 को, हैदराबाद के निजाम ने आत्मसमर्पण कर दिया और हैदराबाद का भारत में समाहित हो गया। यह संग्राम आज 72 साल के संघर्ष को चिन्हित करता है। 17 सितंबर को महाराष्ट्र के लोग इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते है।  जब  वसंतदादा पाटील मुख्यमंत्री बने थे, तो उन्होंने स दिन को मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम दिवस के रूप में मनाना शुरू किया।

    हैदराबाद भारत से अलग राष्ट्र 

    भारत की आजादी के बाद भारत और पाकिस्तान का विभाजन हो गया। जिसके बाद 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस बन गया। लेकिन तब उस समय निजाम हैदराबाद में अपना स्थान स्थापित करना चाहते थे। निजाम हैदराबाद को भारत से एक अलग राष्ट्र बनाना चाहते थे। हैदराबाद को अलग जिले बनाने में महाराष्ट्र के 8 जिले शामिल थे। जैसे मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्से शामिल थे। भारत में शामिल होने के लिए नागरिकों को संघर्ष करना पड़ा। निजाम लोगों पर अत्याचार भी करता था। मराठवाड़ा की मुक्ति के लिए लोगों ने संघर्ष किया। इस लड़ाई का नेतत्व स्वामी रामानंद तीर्थ ने किया था।

    भारत में अपना राष्ट्र बनाने के लिए निजाम ने बहुत कोशिश की। लेकिन 13 सितंबर 1948 को जब भारत सरकार ने निजाम पर आक्रमण कर दिया। तब निजाम को भारत सरकार के आगे झुकना पड़ा और उसने आत्मसमर्पण कर दिया। जिसके बाद हैदराबाद को भारत में शामिल कर लिया गया और महाराष्ट्र के मराठवाड़ा लोगों को भी आजादी मिली। इसलिए हर साल 17 सितंबर को मराठवाड़ा में इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। मराठवाड़ा मुक्ति के इतिहास को बनाए रखने के लिए औरंगाबाद में एक मुक्ति स्तंभ बनाया गया है।