nambi
File Pic

    कोच्चि. केरल के पूर्व पुलिस अधिकारी एस विजयन ने बुधवार को केरल उच्च न्यायालय में आरोप लगाया कि इसरो (ISRO) के पूर्व वैज्ञानिक नंबी नारायणन (Nambi Narayan) ने 1994 के जासूसी मामले में सीबीआई के जांच अधिकारियों के साथ करोड़ों रुपये के भूमि सौदों में शामिल होकर जांच को प्रभावित किया था।

    विजयन केरल पुलिस और गुप्तचर ब्यूरो (IB) के 17 अन्य पूर्व अधिकारियों के साथ, 1994 के जासूसी मामले में नारायणन और कुछ अन्य को कथित रूप से फंसाने के लिए सीबीआई (CBI) जांच का सामना कर रहे हैं। विजयन के वकील ने बुधवार को न्यायमूर्ति आर नारायण पिशारदी की एकल पीठ के समक्ष यह दावा किया है। न्यायमूर्ति पिशारदी को उन्होंने यह भी बताया कि उन्होंने निचली अदालत के समक्ष तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले में कई एकड़ भूमि के ऋणभार प्रमाण पत्र रखे थे, जिनमें नारायणन या उनके बेटे को अटॉर्नी धारकों के रूप में दिखाया गया है।

    विजयन ने उच्च न्यायालय में आरोप लगाया है कि इन जमीनों को सीबीआई अधिकारियों को बेच दिया गया था। उन्होंने तर्क दिया है कि निचली अदालत के लिए यह सामग्री नारायणन और एजेंसी के अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत जांच का आदेश देने के लिए पर्याप्त थी। हालांकि, उच्च न्यायालय ने कहा कि ऋणभार प्रमाण पत्र भूमि की बिक्री को साबित नहीं करते। अदालत ने विजयन को वास्तविक बिक्री दस्तावेज दिखाने के लिए कहा है। उच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि निचली अदालत को जांच का आदेश देने के लिए मुकदमा चलाने की मंजूरी की भी आवश्यकता होगी। उच्च न्यायालय ने कहा कि वह विजयन की याचिका स्वीकार करने के बारे में एक आदेश पारित करेगा और नारायणन सहित सभी पक्षों को नोटिस जारी करेगा क्योंकि उनका पक्ष भी सुनना होगा।