SIDDHU

    चंडीगढ़. जहाँ एक तरफ नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) आज यानी 23 जुलाई को पंजाब कांग्रेस के नए अध्‍यक्ष का पदभार ग्रहण करने वाले हैं। वहीं दूसरी तरफ आज हो रही उनकी ताजपोशी में शामिल होने के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) भी राजी हो, समारोह स्थल पर पहुँच गए हैं। वहीं सिद्धू की ताजपोशी से पहले उन्होंने अमरिंदर सिंह से मुलाकात भी की है। जिसके बाद अब तमाम राजनीतिक हलकों में यह चर्चा तेज हो गई है कि क्‍या अब कैप्‍टन और सिद्धू के बीच तल्‍खी खत्‍म हो चुकी है। इसके साथ ही राहुल गांधी ने भी दिल्ली से कहा कि पंजाब कांग्रेस की साड़ी समस्याएं दूर हो चुकी हैं।

    कैप्टन-सिद्धू की मुलाकात, तस्वीरों के कई मायने : 

    इधर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने चंडीगढ़ के पंजाब भवन में नवनियुक्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू से आज मुलाकात की। दरअसल नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के पदभार ग्रहण करने के पहले मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने एक चाय पार्टी रखी थी, जिसमें सिद्धू भी शामिल हुए और अमरिंदर सिंह से मुलाकात भी की। इस दौरान वहां पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat) भी मौजूद थे। इधर अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के मुलाकात की तस्वीरें मुख्यमंत्री मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल (Raveen Thukral) ने शेयर की हैं।

    बता दें कि आज नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के अलावा पंजाब कांग्रेस के कार्यकारी प्रधान कुलजीत सिंह नागरा, सुखविंदर सिंह डैनी, संगत सिंह गिलजियां और पवन गर्ग भी अपना पदभार संभालेंगे। इसके साथ ही आज सभी कांग्रेस विधायकों को यह भी निर्देश दिया गया है कि पदभार ग्रहण समारोह को यादगार बनाने के लिए अपने हलकों से कम से कम 1000 पार्टी कार्यकर्ताओं को भी चंडीगढ़ जरुर लेकर आएं। 

    इस तरह प्रदेश कांग्रेस का लक्ष्य आज 50,000 पार्टी कार्यकर्ताओं को चंडीगढ़ स्थित पंजाब कांग्रेस भवन में एकत्र करने का है। लेकिन यह भी मालूम हो कि इस समय चंडीगढ़ में धारा 144 लागू है और इतनी बड़ी संख्या में लोगों के जमा होने की मंजूरी फिलहाल पुलिस ने नहीं दी है। अब यह UT पुलिस तय करेगी कि कांग्रेस भवन में कितने लोगों को एकत्र होने की अनुमति दी जाए। बरहाल सिद्धू-कैप्टन ककी जंग फिलहाल ख़त्म होती सी दिख रही है या ये सिर्फ तूफ़ान के पहले की शांति है।