Maharashtra Floods : Flood-like situation in Maharashtra, see horrifying scenes in pictures
NDRF ने तेज किया रेस्क्यू ऑपरेशन (Photo Credits-ANI Twitter)

    समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार बंगाल की खाड़ी के ऊपर तेज हो रहे चक्रवात गुलाब के मद्देनजर राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) आंध्र प्रदेश और ओडिशा के लिए 18  टीमों को तैनात कर रहा है। 

    NDRF ने जानकारी देते हुए कहा है कि आंध्र प्रदेश में 13 और ओडिशा में 5 टीमों को तैनात करेगा । बता दें कि आईएमडी ने बुलेटिन जारी कर बताया था कि आंध्र प्रदेश और ओडिशा के कुछ हिस्सों में चक्रवात आने की संभावना है।

    आईएमडी ने अनुमान लगाया है कि अगले 12 घंटों में उत्तरी आंध्र प्रदेश और उससे सटे दक्षिणी ओडिशा के पार करने की संभावना है। यह चक्रवात 26 सितंबर की शाम तक उत्तर आंध्र प्रदेश और दक्षिण ओडिशा के तट से गुजरेगा। इस चक्रवात को ‘गुलाब चक्रवात’ के नाम से जाना जाएगा। 

    मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि इसके प्रभाव से शनिवार को ओडिशा और तटीय आंध्र प्रदेश के ज्यादातर स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने और कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने का अनुमान है। रविवार को भी दक्षिण ओडिशा और उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश में ज्यादातर स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने और कुछ इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है। 

    ओडिशा के उत्तरी अंदरुनी इलाकों, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ में भी रविवार को भारी बारिश हो सकती है। इसी तरह आईएमडी ने 27 सितंबर के लिए ओडिशा और तेलंगाना के ज्यादातर स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने और कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने का अनुमान जताया है। साथ ही तटीय पश्चिम बंगाल के कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है।

    उसने बंगाल की खाड़ी के उत्तरपश्चिम और पश्चिम-मध्य क्षेत्र में 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चलने का भी अनुमान जताया है।  अगले तीन दिनों के दौरान समुद्र में ऊंची लहरें उठेंगी और ओडिशा, पश्चिम बंगाल तथा आंध्र प्रदेश में मछुआरों को 25 से 27 सितंबर तक बंगाल की खाड़ी के पूर्वी-मध्य और उत्तरपूर्वी क्षेत्र में समुद्र में न जाने को कहा गया है।

    आईएमडी ने 26 सितंबर को तटीय आंध्र प्रदेश और अगले दो दिनों में ओडिशा तथा छत्तीसगढ़ में मूसलाधार बारिश के कारण सड़कों के जलमग्न होने और निचले इलाकों में जलभराव का भी अनुमान जताया है। ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त ने सभी जिलाधीशों से मौसम पूर्वानुमान के मद्देनजर सतर्क रहने को कहा है।