corona
File Photo

  • मुंबई में नई गाइडलाइंस, पढ़ें 10 बड़ी बातें

नयी दिल्ली/मुंबई. एक खबर के अनुसार ब्रिटेन (Britain) में कोरोना (Corona) का नया वेरिएंट जहाँ तेजी से फैल रहा है जिसको देखते हुए भारत सरकार ने 22 दिसंबर रात 12:00 बजे से लेकर 31 दिसंबर रात 12:00 बजे तक यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) से आने वाली सभी फ्लाइट्स को फिलहाल सस्पेंड (Suspend)  कर दिया है। वहीं अब खबर है कि कल रात ब्रिटेन के लंदन (London) से दिल्ली (Delhi) हवाई अड्डे पर पहुंची फ्लाइट में पांच लोगों में कोरोना के लक्षण पाए गए हैं।

दरअसल कल रात को ब्रिटेन के लंदन से दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंचे एक फ्लाइट में 266 यात्रियों और चालक दल के सदस्यों में से पांच में कोरोना के लक्षण पाए गए हैं। उनके नमूने NCDC को अनुसंधान के लिए भेजे गए हैं और उक्त कोरोनाग्रस्त लोगो कों एक देखभाल केंद्र भेजा गया है, ऐसा अधिकारियों ने बताया है। गौरतलब है कि ब्रिटेन कोरोना का नया वेरिएंट जहाँ तेजी से फैल रहा है वहीं इसे अत्यधिक संक्रामक बताया जा रहा है।

क्या हैं नए गाइडलाइंस:

वहीं अब 22 दिसंबर 2020 से एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1987 और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 के तहत मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Mumbai International Airport) पर कोरोना के नए म्युटेंट को मुंबई (Mumbai) में फैलने से रोकने के लिए कुछ उपाय किए गए हैं। जो कि इस प्रकार हैं-

  1. वे सभी यात्री जो मिडिल ईस्ट या यूरोपियन देशों से मुंबई आएंगे, अब उन्हें इंस्टीट्यूशनल क्वॉरेंटाइन किया जाएगा। लेकिन उन्हें अपने खर्च पर यह इंस्टीट्यूशनल क्वॉरेंटाइन करना होगा जो 7 दिनों के लिए अनिवार्य होगा।
  2. फिर भी अगर किसी यात्री में कोरोना के लक्षण के मिलते हैं तो उसे मुंबई के फोर्ट इलाके में मौजूद जीटी हॉस्पिटल इलाज के लिए भेजा जाएगा।
  3. अब आगमन के समय RT PCR टेस्ट (कोरोनावायरस टेस्ट) नहीं होगा। अब यह टेस्ट पांचवें दिन से लेकर सातवें दिन तक यात्रियों के खर्च पर ही किया जाएगा। अगर यह रिपोर्ट नेगेटिव आती  है तो पैसेंजर को डिस्चार्ज कर दिया जाएगा और उन्हें 7 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में रहना अनिवार्य होगा। वहीं अगर यह रिपोर्ट पॉजिटिव आती है लेकिन कोरोना के लक्षण नहीं होंगे तो उन्हें आगे होटल में ही क्वॉरेंटाइन जारी रखना होगा और अगर कोरोना के लक्षण मिलते हैं तो उन्हें फिर 14 दिनों के लिए कोविड-19 हॉस्पिटल में भेज दिया जाएगा।
  4. उक्त यात्रियों को होटल तक पहुंचाने के लिए सारी व्यवस्था बेस्ट (बस) द्वारा की जाएगी।
  5. इन देशों से आने वाले यात्रियों के लिए करीब 4000 कमरों की रोज जरूरत होगी। अब यात्री अपने पसंद के हिसाब से होटल का चयन कर पाएंगे। लेकिन होटल का खर्च यात्रियों को ही उठाना होगा। 
  6. इन सभी यात्रियों के पासपोर्ट होटल में ही रखे जाएंगे जो उन्हें डिस्चार्ज के समय यह वापस मिलेगा।
  7. अब मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर काम करने वाले इमीग्रेशन अफसर या दूसरे कर्मचारियों को PPE किट मुहैया होगी।
  8. यात्रियों के टेस्टिंग के लिए प्राइवेट लैबोरेट्रीज को भी अब इन क्वारंटाइन होटल के साथजोड़ा जाएगा। लेकिन इस टेस्टिंग का खर्चा भी यात्रियों को ही उठाना होगा।
  9. यह पूरा ऑपरेशन कलेक्टर,MCD और उनकी टीम द्वारा मॉनिटर होगा।
  10. अब से यह गाइडलाइंस मिडिल ईस्ट और यूरोपीयन देशों से मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे  पर आने वाले सभी यात्रियों के लिए सामान रूप से लागू होगी।