Devendra and Eknath Shinde
File Photo

    मुंबईः महाराष्ट्र की राजनीति में चल रहा घमासान अब अपने अंतिम पड़ाव पर है। करीब 11 दिनों के बड़े उलटफेर के बाद भले ही महाराष्ट्र में शिवसेना के बागी विधायकों के साथ बीजेपी की नई सरकार गठित हो गई हो लेकिन अग्निपरीक्षा अभी बाकी है। महाराष्ट्र की नवगठित सरकार को आज विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का सामना करना पड़ेगा। हालांकि, उपमुख्यमंत्री व बीजेपी के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने पहले ही दावा किया है कि, फ्लोर टेस्ट में 166 वोटों के साथ अपनी नई सरकार का बहुमत साबित करेंगे।

    आपको बता दें कि, महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट से पहले बीजेपी-शिंदे गुट के विधायकों ने एकनाथ शिंदे को अपना नेता व बीजेपी के राहुल नार्वेकर को स्पीकर चुना है। स्पीकर राहुल नार्वेकर ने बीते रविवार को 164 वोटों के साथ स्पीकर बने थें, लेकिन 2 विधायक अस्वस्थक होने के चलते नही पहुंच सके थें। उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का दावा है कि, विश्वास मत में हम 166 वोटों के साथ अपना बहुमत साबित करेंगे।

    आपको बता दें कि, वर्तमान में 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में बीजेपी के 106 विधायक, शिंदे शिवसेना बालासाहब के 39 बागी, कुछ निर्दलीय विधायकों के साथ होने का दावा कर रहे हैं। नियम के अनुसार फ्लोर टेस्ट में सदन में बहुमत सिद्ध करने का आंकड़ा 144 विधायक है।

    गौरतलब है कि, शिवसेना के वरिष्ठ नेता एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बाद महाराष्ट्र में बीजेपी के समर्थन से नई सत्ता बनी है। ऐसे में आज विधानसभा विशेष सत्र का दूसरा दिन होगा। बीती रविवार की शाम को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के साथ फ्लोर टेस्ट को लेकर मीटिंग की थी। मुंबई के एक प्रसिद्ध होटल में शिवसेना विधायक और बीजेपी के विधायक अपने दोनों ग्रुप के कई दिग्गज नेता मौजूद थें। जिस बैठक में फ्लोर टेस्ट की रणनीति बनाई गई है।