यासीन मलिक को मिली सजा पर बोली निर्मला खन्ना- आतंकी हमलों के पीड़ितों के लिए न्याय है, लेकिन मैं संतुष्ट नहीं…

    नई दिल्ली: दिल्ली के एनआईए कोर्ट ने अलगाववादी नेता यासीन मालिक (Yasin Malik) को उमकैद की सजा सुनाई है। जिसके बाद उसके द्वारा किये गए आतंकी हमले (Terrorist Attacks) में शिकार हुए लोगों ने प्रतिक्रिया दी है। यासीन मलिक द्वारा किए गए आतंकी हमले के शिकार भारतीय वायुसेना अधिकारी रवि खन्ना की पत्नी निर्मल खन्ना (Nirmala Khanna) ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा, ‘यह उसके (यासीन मलिक) द्वारा किए गए आतंकी हमलों के पीड़ितों के लिए न्याय है। कुछ लोग संतुष्ट हो सकते हैं लेकिन मैं संतुष्ट नहीं हूं क्योंकि मैं अपने मामले में उनके लिए मौत की सजा चाहता हूं।’ 

    इन मामलों में मिली सजा

    बता दें कि, दिल्ली की अदालत ने यासीन मालिक को अलग-अलग सजा सुनाई है। अदालत ने मलिक को कुल आठ मामलों में सजा सुनाई है। जिनमें दो मामलो में 5-5 साल की सजा, देश के खिलाफ जंग छेड़ने सहित एक अन्य मामले में उम्रकैद सहित चार मामलों में 10-10 साल की सजा सुनाई है। यह सभी सजा एक साथ चलेंगी।

    इससे पहले,  अलगाववादी नेता यासीम मलिक को आतंकवाद के वित्त पोषण के एक मामले अदालत ने 19 मई को दोषी करार दिया था।

    यासीन ने उस पर लगे आरोपों को किया था स्वीकार 

    ज्ञात हो कि, अलगाववादी नेता ने खुद पर लगे सभी आरोपों को स्वीकार किया था, जिनमें गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून के तहत आरोप भी शामिल हैं। वर्तमान में यासीन मलिक अभी तिहाड़ जेल में बंद है। उस पर साल 1990 में एयरफोर्स के 4 जवानों की हत्या का भी आरोप है, जिसे भी उसनें खुद कबूल किया है।