INDIA-Meet
'इंडिया' गठबंधन की बैठक

Loading

नई दिल्ली/मुंबई: एक बड़ी खबर के अनुसार आगामी 6 दिसंबर को होने वाली INDIA की बैठक पर शिवसेना (Shiv Sena) (उद्धव ठाकरे गुट) सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा कि यह बैठक जल्दबाजी में नहीं बुलाई गई है। उनके अनुसार चुनाव के नतीजे आने से पहले बैठक का आयोजन किया गया था। सभी को इस बाबत जानकारी भी दी गई थी। खरगे जी द्वारा पहले पार्टी के कई बड़े नेताओं ने इस बाबत संपर्क भी किया था। कल उद्धव ठाकरे (Udhhav Thackeray) भी बैठक के लिए पहुंच रहे हैं।

नीतीश कुमार भी गायब 

हालाँकि तीन राज्यों में आए चुनावी परिणाम के बाद इंडिया गठबंधन (INDIA) में बगावत के सुर तेज होने लगे हैं। 6 दिसंबर को होने वाली बैठक से पहले ही बंगाल की मुख्यमंत्री  ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने आने से साफ़ मना कर दिया है। इसके साथ ही भी खबर है कि 6 दिसंबर को होने वाली INDIA की इस बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार (Nitish Kumar) भी नहीं पहुँच रहे हैं। बताया गया कि उनकी तबीयत ठीक नहीं है। वहीं, इस बैठक में आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Yadav) और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव (Tejahwi Yadav) शामिल होंगे। 

वहीँ पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के बयान पर कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ”चुनावों से पहले भी उनका रवैया ऐसा ही था। पांच राज्यों में चुनाव थे लेकिन उन्होंने कभी भी लोगों से BJP को हराने के लिए विपक्ष को वोट देने की अपील नहीं की।”

कांग्रेस को बड़ा झटका

जानकारी दें कि कांग्रेस पार्टी को उम्मीद थी कि मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में BJP को हराने के बाद इंडिया गठबंधन में उनकी बारगेनिंग पॉवर बढ़ जाएगी। फिर उप्र, बंगाल, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में जहां लोकसभा की सीटों की संख्या ज्यादा है, वहां वे मनमुताबिक सीट पर चुनाव लड़ेंगे। लेकिन इसके उलट BJP ने मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में जबरदस्त जीत हासिल कर कामयाबी की हैट्रिक लगा दी। 

ऐसा रहा कांग्रेस के लिए चुनाव 

राजस्थान 115 सीटों के साथ BJP ने राजस्थान में दमदार की जबकि कांग्रेस को यहां महज 69 सीटों पर संतोष करना पड़ा। वहीं, अन्य के खाते में भी 15 सीटें आईं। इधर मध्यप्रदेश में BJP को 163 सीटों की भारी बहुमत के साथ एक बार फिर सरकार बनाएगी, जबकि कांग्रेस 66 सीटों पर ही सिमट कर रह गयी। वहीं जिस राज्य ने कांग्रेस को सबसे ज्यादा चौंकाया वो रहा छत्तीसगढ़। यहां की बात करें तो BJP 54 सीटों के साथ सत्ता परिवर्तन करने में कामयाब रही जबकि कांग्रेस को सिर्फ 35 सीटों से संतोष करना पड़ा। 

BJP को हराने के लिए ही बना था INDIA गठबंधन

बता दें कि, लोकसभा चुनाव 2024 से पहले BJP, प्रधानमंत्री मोदी और NDA का मुकाबला करने के लिए नीतीश कुमार ने कांग्रेस, TMC, राजद, आप, सपा, डीएमके समेत 26 विपक्षी दल को साथ लाने का प्रयास किया था। दो बैठक होने के बाद इन विपक्षी दलों के गठबंधन को ‘INDIA’ नाम दिया।वहीँ गठबंधन की पहली बैठक पटना में, दूसरी बैठक बेंगलुरु और तीसरी बैठक मुंबई में आयोजित की गई थी। 

ममता की तरह अखिलेश भी बना रहे दुरी

वहीं 3 दिसंबर को जब चुनाव परिणाम आ रहे थे, तब खड़गे ने चौथी बैठक दिल्ली में 6 दिसंबर को बुलाई। ऐसे में अब सभी की नजरें छह दिसंबर की इसी बैठक पर लगी है कि क्या ममता के बाद अखिलेश भी इस बैठक से खुद को दूर रखने का निर्णय लेते है, इस पर सस्पेंस है। क्योंकि MP में उन्हें भी कांग्रेस ने पांच सीट देने से मना कर दिया था। हालांकि महाराष्ट्र से शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) से खुद उद्धव ठाकरे इस बैठक के लिए पहुंच रहे हैं।