PHOTO- ANI
PHOTO- ANI

    नई दिल्ली: कांग्रेस और कई अन्य विपक्षी दलों ने संसद के मौजूदा बजट सत्र (budget session) में उठाये जाने वाले मुद्दों और सरकार को घेरने की रणनीति पर गुरुवार को चर्चा की।  राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे (Mallikarjun Kharge) के संसद भवन स्थित कक्ष में हुई बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश, तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंदोपाध्याय और डेरेक ओब्रायन, द्रमुक की कनिमोई, समाजवादी पार्टी के रामगोपाल यादव, शिवसेना (उद्धव ठाकरे) के संजय राउत (Sanjay Raut) और कुछ अन्य दलों के नेता मौजूद थे। संजय राउत ने कहा कि संसद के दोनों सदनों में विपक्षी दल हिंडनबर्ग रिपोर्ट और अडानी स्टॉक क्रैश का मुद्दा उठाएंगे। 

    इसके अलावा विपक्षी दल चीन, महंगाई, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था से जुड़े मुद्दों, केंद्र-राज्य संबंध आदि पर सरकार को घेर सकते हैं। इस बीच लोकसभा में कांग्रेस सदस्य मणिकम टैगोर ने अडानी मामले और मनीष तिवारी ने चीन के मामले पर चर्चा की मांग करते हुए कार्यस्थगन के नोटिस दिए हैं।  

    अडानी समूह के खिलाफ हिंडनबर्ग रिपोर्ट पर कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा कि हम मांग करेंगे कि कथित विचलन में जाने के लिए एक संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) गठित की जानी चाहिए। सवाल केवल एक प्रवर्तक का नहीं बल्कि पूरे नियामक तंत्र की क्षमता का है। 

    वहीं दूसरी ओर शिवसेना सांसद (उद्धव ठाकरे गुट) प्रियंका चतुर्वेदी ने नियम 267 के तहत ‘एलआईसी, एसबीआई, आदि की होल्डिंग्स के ओवरएक्सपोजर की कथित घटनाओं के आलोक में तत्काल सार्वजनिक महत्व’ के मामले पर चर्चा के लिए राज्यसभा में सस्पेंशन ऑफ बिजनेस नोटिस दिया।

    बता दें कि संसद का बजट सत्र मंगलवार से आरंभ हो गया है। इसका पहला चरण 14 फरवरी तक होगा। करीब एक महीने के अवकाश के बाद बजट सत्र का दूसरा चरण 12 मार्च से शुरू होगा और 6 अप्रैल तक चलेगा। दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में सरकार की रणनीति पर चर्चा करने के लिए केंद्रीय मंत्रियों अमित शाह, राजनाथ सिंह, अनुराग ठाकुर, निर्मला सीतारमण, प्रल्हाद जोशी, पीयूष गोयल, नितिन गडकरी, किरेन रिजिजू के साथ बैठक की।